धमतरी : कोरोना जांच की दहशत, सर्दी-खांसी के मरीज नहीं आ रहे जिला अस्पताल

धमतरी : कोरोना जांच की दहशत, सर्दी-खांसी के मरीज नहीं आ रहे जिला अस्पताल
dhamtari-panic-of-corona-examination-cold-cough-patients-are-not-coming-to-the-district-hospital

मरीज मेडिकल व गांवों में झोलाछाप डाक्टरों से दवाई खाकर चला रहे काम धमतरी, 18 अप्रैल (हि.स.)। सर्दी, खांसी और बुखार के मरीज अब जिला अस्पताल आने से घबरा रहे हैं। चिकित्सकों द्वारा कोरोना जांच पर्ची थमाने से दहशत में है। यही वजह है कि कोरोना काल में ओपीडी मरीजों व सर्दी-खांसी के मरीज काफी कम हो गए हैं। वहीं भर्ती मरीजों की संख्या भी पहले से कम है। शहर से लेकर गांवों में कोरोना मरीज हर रोज मिल रहे हैं। प्रति दिन धमतरी जिले में 400 से अधिक कोरोना मरीज सामने आ रहे हैं। यह रिपोर्ट जागरूक लोगों की है, जो सेहत को लेकर गंभीर है। जबकि शहर व गांवों में 20 से 30 प्रतिशत लोग सर्दी-खांसी व बुखार से पीड़ित है। ऐसे लोग जिला अस्पताल उपचार कराने नहीं पहुंच रहे हैं। क्योंकि बुखार, सर्दी व खांसी बताते ही चिकित्सक कोरोना जांच के लिए सबसे पहले पर्ची थमा रहे हैं। ऐसे में शहर व गांवों से लोग सर्दी, खांसी व बुखार होने पर उपचार कराने नहीं पहुंच रहे हैं। ये लोग गांवों में झोलाछाप डाक्टरों के पास उपचार करा रहे हैं। ज्यादातर लोग मेडिकल से दवाई खरीदकर खा रहे हैं। यही वजह है कि शहर व गांवों से सर्दी-खांसी व बुखार के मरीज कहीं कोरोना जांच करा दिया तो संकट में न पड़ जाए इसलिए वे अब निजी अस्पताल में भी उपचार करा रहे हैं। शासकीय अस्पताल नहीं आ रहे हैं। क्योंकि शहर से लेकर गांव में अफवाह का बाजार गर्म है कि सामान्य सर्दी, खांसी और बुखार को भी जिला अस्पताल में कोरोना बता रहे हैं। इससे लोग दहशत में है। यही वजह है कि इस तरह के मरीजों ने जिला अस्पताल में आना ही बंद कर दिया है। जिला अस्पताल में कम हुई मरीजों की संख्या मरीजों के नहीं आने से जिला अस्पताल में पिछले कई दिनों से ओपीडी की संख्या काफी कम हो गई है। गिनती के लोग ही उपचार कराने पहुंच रहे हैं, जो कई तरह की अन्य बीमारियों से ग्रसित है। जिला अस्पताल में पदस्थ डाॅ. संजय वानखेड़े का कहना है कि लोग सर्दी, खांसी व बुखार बढ़ने पर ही अस्पताल उपचार कराने पहुंच रहे हैं। समय पर उपचार नहीं करा रहे हैं। ऐसे लोग बेखौफ घूम रहे हैं। कई लोगों के संपर्क में आ रहे हैं इससे कोरोना बढ़ रहा है। संकट के दौर पर जागरूकता दिखाए लोग धमतरी जिला के सीएमएचओ डॉ. डीके तुर्रे ने कहा कि सर्दी, खांसी व बुखार होने पर जरूरी नहीं है कि वह व्यक्ति कोरोना पाजिटिव हो। डाक्टरों को लक्षण दिखने पर वे कोरोना जांच के लिए लिखते हैं। गांव में फैले अफवाह से ग्रामीण व लोग बचे। कोरोना के लक्षण दिखने पर तत्काल कोरोना की जांच कराए। लक्षण होने पर न छिपाएं, तत्काल जिला अस्पताल, सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचकर कोरोना जांच कराए। नहीं तो खतरे से इंकार नहीं किया जा सकता। संकट के इस दौर में लोग जागरूकता दिखाएं और कोरोना वायरस से बचाव व सुरक्षा के लिए सावधानी बरतें। हिन्दुस्थान समाचार / रोशन