dhamtari-paddy-is-being-weighed-down-by-the-pests-in-paddy-procurement-centers
dhamtari-paddy-is-being-weighed-down-by-the-pests-in-paddy-procurement-centers
news

धमतरी : धान खरीद केंद्रों में सुरही कीट से धान का वजन हो रहा कम

news

धमतरी, 17 फरवरी ( हि. स.)। धान उपार्जित केंद्रों में भंडारित धान पर अब सुरही कीट का अटैक होने लगा है। धान की नमी सोख लेने के कारण धान का वजन कम हो रहा है। जिले के धान उपार्जन केंद्रों में साढ़े 17 लाख क्विंटल से अधिक धान खुले में पड़ा हुआ है। धान उपार्जित केंद्रों में धान की सुरक्षा करना परेशानी का सबब बन गया है। समिति प्रबंधकों की माने तो धान का उठाव न होने के कारण अब अतिरिक्त समस्या हो गई है। चूहे और दीमक से पहले ही परेशान थे अब तो सुरही नामक कीट भी खरीदी केंद्रों में रखे हुए धान को खराब कर रही है। समीपस्थ बालोद जिले के धान खरीदी केंद्र कनेरी के सहायक प्रबंधक कमल किशोर साहू ने बताया कि धान की बोरियों में सुरही कीट सीधे बोरियों में घुस जाती है, जो धान के चावल की नमी को चूस लेती है। इसके चलते धान की बोरियों का वजन कम हो जाता है। बीते कुछ सालों से इस समस्या का सामना करना पड़ रहा है। खुले में रखे धान को धान की बोरियों के ऊपर से ही यह कीट नमी खींच लेती है। इसके बचाव के लिए दवा का छिड़काव कर रहे हैं। जिले के सोरम धान खरीदी केंद्र के प्रबंधक और खोरबाहरा राम साहू ने बताया कि धान का उठाव नहीं होने के कारण परेशानी हो रही है। खुले में रखे धान को चूहे खा रहे हैं। कई बोरियों को चूहों द्वारा काट देने से धान जमीन में फैल रहा है इसी तरह बेमौसम बारिश से भी धान के खराब होने का खतरा मंडरा रहा है। भंडारित स्थल के आसपास नमी के कारण आते हैं कीट कृषि विज्ञान केंद्र संबलपुर के कृषि वैज्ञानिक डा एसएस चंद्रवंशी ने बताया कि लंबे समय तक धान के अंदर मौजूद नमी को सूखने का काम सुरही कीट करते हैं। यदि भंडारित स्थल पर उचित प्रबंध न किया जाए तो यह तेजी से बढ़ते हैं और पूरे धान को खोखला कर देते हैं। इसकी तेजी के साथ बढ़त होती है। इसके बचाव के लिए सल्फास या अन्य कीटनाशक दवाओं का छिड़काव करना जरूरी है। इसके अलावा भंडारित स्थल के आसपास नमी को भी हटाने का प्रयास होना चाहिए। हिन्दुस्थान समाचार / रोशन-hindusthansamachar.in