धमतरी : मंडी खोलने की मांग, तौलय्या व हमाल संघ की हुई बैठक

धमतरी : मंडी खोलने की मांग, तौलय्या व हमाल संघ की हुई बैठक
dhamtari-demand-to-open-market-meeting-of-taulayya-and-hamal-union

धमतरी 17 मई ( हि. स.)। कृषि उपज मंडी पिछले 36 दिनों से लाकडाउन के चलते बंद है। ऐसे में यहां काम करने वाले तौलय्या, हमाल व रेजाओं के सामने काम के लाले पड़ गए हैं। आर्थिक तंगी से जूझ रहे हमाल संघ के पदाधिकारियों ने बैठक आयोजित कर शीघ्र ही शासन से मंडी को खोलने की मांग की है, ताकि उन्हें काम मिल सके। तौलय्या हमाल संघ के पदाधिकारी व कुछ सदस्यों की 17 मई को जिला कृषि उपज मंडी प्रांगण श्यामतराई धमतरी में बैठक आयोजित हुई। बैठक में संघ के दिनेश नेताम, यादराम साहू और गोपी किशन साहू ने बताया कि पिछले साल लाकडाउन के बीच शासन प्रशासन ने धान खरीद के लिए मंडी को चालू रखा था। कोरोना के गाइडलाइन का पालन करते हुए यहां धान खरीद की गई थी। इस साल पिछले 36 दिनों से जिले समेत प्रदेश में लाकडाउन है। धान खरीद पूरी तरह से बंद रखा गया है। जिला प्रशासन अब तक चार चरण में लाकडाउन की घोषणा कर चुके हैं। चौथे चरण की घोषणा में सभी प्रकार के दुकानदारों को समय निर्धारित कर दुकान खोलने की अनुमति दी है। इससे उनका व्यवसाय शुरू हो गया है, लेकिन जिस मंडी में बैठकर जिला प्रशासन ने व्यवसायियों की बैठक ली, उसी मंडी में काम करने वाले सैकड़ों हमाल, रेजा और तौलय्या की रोजी-रोटी को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई। जबकि इनमें अधिकांश लोग रोज खाने व कमाने वाले हैं। ऐसे में लंबे समय से काम बंद होने की वजह से आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं। हमाल संघ के पदाधिकारियों की मांग है कि शासन शीघ्र ही कृषि उपज मंडी श्यामतराई को खोले। रबी सीजन की धान की खरीदी करे, क्योंकि इन दिनों अंचल में अधिकांश किसानों ने रबी धान फसल की कटाई मिंजाई कर ली है। कई किसान राइसमिलों में धान बेच रहे हैं। लंबे समय से मंडी बंद होने की वजह से मजदूरों को काम के लाले पड़े हुए हैं। किसान रबी धान को अपने घरों में स्टाक कर रखे हैं क्योंकि मंडी में ही उन्हें संतोषजनक दाम मिल पाता है। जबकि गांव में सक्रिय कोचिया ओने पौने दाम पर उनके धान खरीदते हैं, तो वे बेचने से मना कर रहे हैं। किसानों को भी मंडी खुलने का बेसब्री से इंतजार है। हिन्दुस्थान समाचार / रोशन