धमतरी : प्रशिक्षु स्टाॅफ नर्सों में कोरोना की दहशत, लौट गई घर

धमतरी : प्रशिक्षु स्टाॅफ नर्सों में कोरोना की दहशत, लौट गई घर
dhamtari-corona39s-panic-among-trainee-staff-nurses-returned-home

कोर्स खत्म होने के बाद भी परीक्षा नहीं, महीनों से कर रही निशुल्क डयूटी धमतरी, 17 अप्रैल ( हि. स.)। स्वास्थ्य विभाग द्वारा संचालित जीएनएम काॅलेज की अंतिम वर्ष की 30 से अधिक प्रशिक्षु नर्स छात्राएं कोरोना ड्यूटी कराने की दहशत से घर जाने काॅलेज से निकल गई। अधिकांश पालकों के साथ चली भी गई। इससे स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है। जीएनएम शासकीय काॅलेज धमतरी में अध्ययनरत अंतिम वर्ष की सभी 30 से अधिक छात्राएं शनिवार सुबह अपने पालकों के साथ घर जाने सामान लेकर निकल गई। प्रशिक्षु नर्स छात्राओं ने बताया कि जीएनएम ट्रेनिंग सेंटर में अंतिम वर्ष की कोर्स नवंबर 2020 में पूरा हो गया है, सिर्फ परीक्षा होना शेष है। इसके लिए सभी महीनों से काॅलेज में स्वयं के खर्च पर ठहरे हैं। इन छात्राओं को शासन से छात्रवृत्ति नहीं मिलती। भोजन की सुविधा नहीं है। स्वयं के खर्च पर भोजन करना पड़ता है। सिर्फ रहने की सुविधा है। इतने दिन बीत जाने के बाद भी परीक्षाएं नहीं हुई है। उल्लेखनीय है कि जीएनएम ट्रेनिंग सेंटर में धमतरी जिले के अलावा रायपुर, कांकेर, जगदलपुर, बालोद सहित अन्य जिलों की 30 छात्राएं अंतिम वर्ष में अध्ययनरत है। वर्तमान में कोरोना संक्रमण को देखते हुए सभी प्रशिक्षु नर्सों की अस्पतालों में ड्यूटी लगाई जाती है, इससे उनमें दहशत है। विभिन्न जिलों से पहुंचे नर्सों की पालकों ने बताया कि उनकी बेटियों का प्रशिक्षण नवंबर 2020 में खत्म हो चुका है, लेकिन अब तक परीक्षा नहीं लिया गया है। खाने के लिए शुल्क देना पड़ता है। कोरोना संक्रमण के बीच अस्पताल में ड्यूटी लगाई जाती है, तो उनकी बेटियों का बीमा कराया जाना चाहिए। छात्रवृत्ति भी नहीं मिल रही है, जिसे देना चाहिए। इन सभी बातों को देखते हुए वे अपनी बेटियों को लेने पहुंचे हैं। अधिकांश नर्स अपने पालकों के साथ चली भी गई। इस संबंध में सीएमएचओ डाॅ. डीके तुर्रे ने बताया कि शासन के निर्देशानुसार नर्सों की ड्यूटी अस्पतालों में लगाई जा रही है। उनके रहने की सुविधा हाॅस्टल में है। परीक्षा शासन स्तर से ली जाएगी। भोजन के लिए कोई फंड नहीं है। बीमा के लिए पात्र हैं, तो जरूर लाभ मिलेगा। यदि प्रशिक्षु नर्सें यहां से जाती हैं, तो उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। हिन्दुस्थान समाचार / रोशन