धमतरी : खदान बंद होते ही रेत के दाम में भारी उछाल, 1300 रुपये बिक रहा प्रति हाइवा

धमतरी : खदान बंद होते ही रेत के दाम में भारी उछाल, 1300 रुपये बिक रहा प्रति हाइवा
dhamtari-a-huge-jump-in-the-price-of-sand-as-soon-as-the-mine-is-closed-rs-1300-per-highway-being-sold

धमतरी, 20 जून ( हि. स.)। रेत खदान बंद होते ही रेत के दाम में भारी उछाल आ गया है। पहले की तुलना में दाम तीन गुना बढ़ गया है, ऐसे में मकान बनाने वालों का बजट बिगड़ने से काम रुक गया है। रेत भंडारण करने वाले लोगों ने रेत खदान बंद होने का फायदा उठाकर रेत के दाम में तीन गुना वृद्धि कर दिया है। अंचल में बारिश शुरू होने के साथ 15 जून से जिले में संचालित 29 रेत खदान पूरी तरह से बंद हो गया है। अब इन खदानों से रेत का उत्खनन खदान संचालक भी नहीं कर पाएंगे, क्योंकि बारिश के दिनों में खदान में पानी भर जाता है, इससे जान का खतरा बना रहता है। बारिश के तीन माह तक जरूरतमंदों को रेत की सप्लाई के लिए जिला खनिज विभाग ने जिले भर के रेत खदानों के आसपास क्षेत्रों में 61 भंडारण केंद्रों को अनुमति दी है। जहां करीब तीन लाख घन मीटर रेत भंडारित है। रेत खदान बंद होने के बाद इन सभी रेत भंडारण केंद्रों से रेत की बिक्री शुरू हो गई है। रेत भंडारण संचालन करने वाले लोगों ने रेत खदान बंद होने का फायदा उठाकर रेत के दाम में सीधे तीन गुना बढ़ोत्तरी कर दिया है, ऐसे में रेत के दाम आसमान छूने लगा है। 26 दिन पहले 3500 से 4000 रुपये बिकने वाला प्रति हाईवा रेत इन दिनों 13000 रुपये तक हो गया है। वहीं प्रति ट्रैक्टर रेत 1800 रुपये तक बिक रहा है, इससे मकान बनाने वाले लोगों का बजट पूरी तरह से बिगड़ चुका है। रेत के बढ़े हुए दाम के चलते ज्यादातर लोगों ने फिलहाल काम बंद कर दिया है। इन लोगों को रेत के दाम गिरने का इंतजार है। प्रशासन का उद्देश्य फेल बारिश के दिनों में रेत की किल्लत और मुनाफाखोरी पर ब्रेक लगाने जिले में एक साथ 61 रेत भंडारण को अनुमति दी गई है, ताकि रेत का दाम सामान्य रहे और जरूरतमंदों को रेत की उपलब्धता हो सके। इसके विपरीत रेत भंडारण करने वाले लोग भंडारण के नाम पर मनमर्जी कर रहा है। रेट निर्धारित करने खनिज विभाग के पास कोई अधिकार नहीं है न ही शासन के पास कोई नियम। यही वजह है कि रेत भंडारण करने वाले संचालकों ने बेखौफ होकर रेत के दाम तीन गुना कर दिया है। जिला सहायक खनिज अधिकारी सनत कुमार का कहना है कि रेत भंडारण करने वाले अपने अनुसार रेत का दाम तय कर बेचेंगे। इसमें खनिज विभाग को हस्ताक्षेप करने का कोई अधिकार नहीं है। हिन्दुस्थान समाचार / रोशन

अन्य खबरें

No stories found.