धमतरी- सड़क दुर्घटनाओं के बढ़ते कारणों की समीक्षा

धमतरी- सड़क दुर्घटनाओं के बढ़ते कारणों की समीक्षा
dhamtari---review-of-the-increasing-causes-of-road-accidents

धमतरी, 1 अप्रैल ( हि. स.)। यातायात के बढ़ते दबाव के चलते लगातार हो सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए उपाय किए जाएंगे। इसके लिए पुलिस, परिवहन, नेशनल हाईवे, पीडब्ल्यूडी की संयुक्त टीम ने दो ब्लैक स्पाट एवं एक ग्रे स्पाट का निरीक्षण किया। इन स्थानों पर हुई दुर्घटनाओं के कारणों की समीक्षा की गई। एक अप्रैल को एससपी बीपी राजभानु के निर्देश पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मनीषा ठाकुर रावटे के नेतृत्व में परिवहन विभाग, लोक निर्माण विभाग, राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण एवं पुलिस अधिकारियों की संयुक्त टीम ने चिन्हित किए गए दो ब्लैक स्पॉट एवं पांच ग्रे स्पॉट का निरीक्षण किया। धमतरी शहर से होकर गुजरे राष्ट्रीय राजमार्ग 30 में पड़ने वाले ब्लैक स्पॉट और ग्राम डांडेसरा से डाहीमोड़ तक के 10 घटनास्थलों का अवलोकन किया गया। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ने सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग किनारे डिवाइडरों की नियमित साफ-सफाई करने का निर्देश दिया। अर्जुनी मोड़ से एचपी गैस एवं श्यामतराई में लगाई गई स्ट्रीट लाइट को रात्रि में चालू कराने, ब्लैक स्पॉट में बनाए गए रंबल स्ट्रिप (गति अवरोधक) में बार मार्किंग, रोड किनारे रोड स्टर्ड, स्टॉप साइन बोर्ड एवं संकेतात्मक बोर्ड लगाने के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण को निर्देशित किया। डीएसपी यातायात सारिका वैद्य, जिला परिवहन अधिकारी शगौरव साहू, अभियंता लोक निर्माण विभाग बीएल पैकरा, अभियंता राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण रामा कृष्णा, प्रभारी यातायात एवं नोडल अधिकारी रोड सेफ्टी सेल गगन बाजपेई, थाना प्रभारी कोतवाली नवनीत पाटिल, अर्जुनी श्उमेद टंडन एवं रोड सेफ्टी सेल के प्रधान आरक्षक चमन सिंह ने निरीक्षण किया। ये हैं शहर के हाईवे के ब्लैक एवं ग्रे स्पाट सिहावा चौक से घड़ी चौक, टिकरापारा से अंबेडकर चौक एवं ग्रे स्पॉट रत्नाबांधा चौक से एचडीएफसी बैंक, बस स्टैंड से डागा धर्मशाला, बठेना नहर से बठेना अस्पताल तक है। धमतरी जिला में वर्ष 2020 में 5 ब्लैक स्पॉट एवं 17 ग्रे स्पॉट चिन्हांकित किया गया था। पूर्व में किए गए निरीक्षण समीक्षा एवं दुर्घटनाओं में कमी लाने के लिए किए गए सुधारात्मक कार्य से वर्ष 2021 में तीन ब्लैक स्पॉट एवं 11 ग्रे स्पॉट में कमी आई है। इन वजहों से हो रही दुर्घटनाएं जिले में घटित गंभीर सड़क दुर्घटनाजन्य स्थल का संयुक्त निरीक्षण कर दुर्घटना के कारणों का विश्लेषण किया गया। रोड किनारे सोल्डर का खराब होना, साइन बोर्ड न होना, रोड किनारे पेड़ों की टहनियां घनी होने, मार्ग के मोड़ों में रोड स्टर्ड, डेलीनेटर नहीं लगे होने से सड़क दुर्घटनाएं हो रही हैं। इन कमियों को दूर करने हेतु लोक निर्माण विभाग को निर्देशित किया गया। हिन्दुस्थान समाचार / रोशन