उज्जैन  जिला पुलिस अधीक्षक की निगाहे में चढ़े 20 शांति के दुश्मन
उज्जैन जिला पुलिस अधीक्षक की निगाहे में चढ़े 20 शांति के दुश्मन
क्राइम

उज्जैन जिला पुलिस अधीक्षक की निगाहे में चढ़े 20 शांति के दुश्मन

news

नागदा, 30 जुलाई (हि.स.)। उज्जैन जिला पुलिस अधीक्षक मनीषसिंह की पेनी निगाहों में 20 शांति के दुश्मन चढे हुए हैं। इन शातिर गुडों की अब खेर नहीं है। इन बदमाशों की सूची पुलिस कप्तान ने स्वयं बनाई है। इतना ही नहीं जिले के प्रत्येक पुलिस थानों से 20- 20 गुडों के नाम भी शांति के दुश्मनों के मांगे गए है। यह खुलासा जिला पुलिस अधीक्षक ने गुरूवार को नागदा में किया। थाना प्रांगण में प्रेसवार्ता में हिंदुस्थान समाचार संवाददाता के एक सवाल पर पुलिस कप्तान ने यह रहस्योदघाटन किया। उन्होंने बताया मप्र सरकार के एक अभियान के तहत उज्जैन जिले में भी गुंडा अभियान चलाया जा रहा है। उनसे जब पूछा कि जिले में अभी तक कितने गुडों को चिन्हित किया गया है। जवाब में एसपी बोले, स्वयं ने 20 गुडों की एक लिस्ट तैयार की है। यह सूची जिले भर से मांगे गए नामों के अलावा अलग भी हो सकती है,संभव है कुछ नाम आपस में सामंजस्य रखते हो। जुलाई के बाद तीन श्रेणियों में 129 गुडों के नाम उनका यह भी कहना था कि 1 जुलाई के बाद विभिन्न अपराधों से जुड़े कुल 129 गुडों के नाम समाने आए है। जिसमें 36 नाम रासूका, 54 जिला बदर तथा 39 नाम वे लोग है, जिन पर ईनाम घोषित है। एक सवाल पर उन्होंने खुलासा किया है यह बात सत्य हैकि आज के परिवेश में आई तकनीकी क्रांति से अपराधियों ने अपराध की नई-नई तकनीकी इजाद कर ली है। अपराध करने में ये साधन उपयोग हो रहे है, तो उज्जैन की पुलिस ने भी इस से निपटने के लिए नई कार्यप्रणाली का अपनाया है। खुफिया एजेंसी का जाल बिछा रखा है। साइबर सेल की टीम का जुटाया गया है। आधुनिक सूचना तंत्र का जाल बिछाया गया है। अपराधी जिस तरह से टैक् नोलाजी के माध्यम से अपराध करने में आगे बढ़ रहे है, पुलिस ने इस संस्कृति को समझकर अपराध पर अंकुश लगाने का रास्ता अपनाया है। तकनीकी के इस युग में पुलिस भी अब अपडेट कर जनता का विश्वास कायम करने में सफ ल हो रही है। उन्होंने कहा कि सीसीटीवी कैमरों की आज आश्यकता है और शहरों में लगाना जाना चाहिए। स्वयं दुकानदार भी इसका उपयोग करें। इसके अलावा मप्र शासन के समक्ष भी जिला कार्यालय से उक्त प्रोजेक्ट के लिए प्रस्ताव भेजा गया है। इस मौके पर शहर में मादक एवं नशीले पदार्थ की ब्रिकी की धड़ल्ले से बिक्री के सवाल पर उन्होंने मीडिया कोआश्वस्त किया है कि इस अपराध पर भी अंकुश लगाया जाएगा। इस मौके पर एएसपी आकाश भूरिया, सीएसपी मनोज रत्नाकर, थाना प्रभारी श्यामसुंदर शर्मा भी मौजूद थे। हिन्दुस्थान समाचार/कैलाश सलोनिया/राजू-hindusthansamachar.in