जयपुर से बिना ई-पास शिमला पहुंची युवती के खिलाफ केस दर्ज
क्राइम

जयपुर से बिना ई-पास शिमला पहुंची युवती के खिलाफ केस दर्ज

news

शिमला, 01 जुलाई (हि.स.)। कोरोना महामारी के प्रकोप के बीच बाहरी राज्यों से कुछ लोग बिना अनुमति पास के हिमाचल पहुंचकर यहां के लोगों के जीवन को खतरे में डाल रहे हैं। ऐसा ही मामला शिमला जिला के ननखड़ी में दर्ज किया गया है। पुलिस ने राजस्थान के कोरोना प्रभावित रेड जोन जयपुर से बिना अनुमति अथवा ई-पास के ननखड़ी के बागानाली गांव में पहुंची 28 वर्षीय युवती के विरूद्व मामला दर्ज किया है। पुलिस द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक युवती गत 28 जून को अपने गांव पहुंची थी। गांव वालों से इसकी भनक लगने पर स्थानीय आशाकार्यकर्ता ने युवती को संस्थागत एकांतवास केंद्र में जाने को कहा। लेकिन युवती ने ऐसा करने से इंकार कर दिया और उल्टा उसने आशा कार्यकर्ता के साथ बदसलूकी कर डाली। आशा कार्यकर्ता ने मामले के संबंध में ननखड़ी पुलिस को सूचना देकर एफआईआर दर्ज करवाई है। वहीं पुलिस ने केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है। आशा कार्यकर्ता ने पुलिस को दी शिकायत में कहा है कि जयपुर से एक युवती 28 जून की सुबह बागानाली गांव में अपने घर पहुंची। पता लगने पर वह उसे सरकार द्वारा जारी दिशानिर्देशों के तहत संस्थागत एकांतवास के लिए उसके घर पर गई, तो युवती ने आशा वर्कर के साथ बदसलूकी और धमकाया कि अगर उसकी कोरोना की रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई, तो वह उसकी धज्जियां उड़ा देगी। आशा वर्कर की तहरीर पर ननखड़ी पुलिस ने आईपीसी की धाराओं 186, 188, 269, 270 और डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट 51 के तहत मुकदमा दर्ज किया है। इस बीच डीएसपी रामपुर अभिमन्यू वर्मा ने बुधवार को बताया कि आरोपित युवती के खिलाफ केस दर्ज कर उसे संस्थागत क्वारेंटाइन में भेजा गया है। हिन्दुस्थान समाचार/उज्जवल/सुनील-hindusthansamachar.in