आरपीएफ ने रेलवे बर्थ बुक कराने के लिए फर्जी लेटरहेड के इस्तेमाल का पदार्फाश किया

 आरपीएफ ने रेलवे बर्थ बुक कराने के लिए फर्जी लेटरहेड के इस्तेमाल का पदार्फाश किया
rpf-busts-use-of-fake-letterhead-to-book-railway-berths

हैदराबाद, 6 जुलाई (आईएएनएस)। रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) ने आपातकालीन कोटा (ईक्यू) के तहत रेलवे बर्थ की पुष्टि के लिए विभिन्न राज्यों के सांसदों और विधायकों के फर्जी लेटरहेड का इस्तेमाल करने के आरोप में यहां दो सदस्यीय गिरोह को गिरफ्तार किया है। रेलवे अधिकारियों ने कहा कि घोटाला तब सामने आया, जब ईक्यू सेल में सतर्क रेलवे अधिकारियों ने गोवा, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, ओडिशा और केरल सहित विभिन्न राज्यों के सांसदों या विधायकों के नौ लेटरहेड से असामान्य रूप से बड़ी संख्या में अनुरोध देखे। आरपीएफ साइबर सेल द्वारा एकत्र की गई जानकारी के आधार पर, अपराध जांच शाखा, हैदराबाद और आरपीएफ मलकाजगिरी की संयुक्त टीमों ने कार्रवाई की और आईडीए बोलाराम, हैदराबाद से 33 वर्षीय दिलीप नायक नाम के एक व्यक्ति को पकड़ा। पूछताछ के दौरान, नायक ने आरपीएफ टीम को सूचित किया कि वह मुकेश चौहान नाम के एक व्यक्ति से परिचित हो गया, जिसने पैसे के खिलाफ प्रतीक्षा सूची के टिकटों की पुष्टि के लिए सांसदों/विधायकों के फर्जी लेटरहेड का इस्तेमाल किया। तभी से आरपीएफ की टीम फरार चौहान की तलाश में थी। चार जुलाई को आरपीएफ की टीम ने फजीर्वाड़ा करते हुए चौहान को दबोच लिया जो अनाधिकृत रूप से रेलवे टिकट बुक करने के लिए दुकान चला रहा था. छापेमारी के दौरान आरपीएफ की टीम ने आरोपी व्यक्तियों के पास से 1,66,476 रुपये मूल्य के 84 पुराने टिकट जब्त किए। रेलवे एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। आरोपी इंटरनेट से सांसदों और विधायकों के लेटरहेड डाउनलोड करते थे, फर्जी सामग्री बनाते थे और फिर रेलवे के वीआईपी कोटे के तहत बर्थ की पुष्टि के लिए उनका इस्तेमाल करते थे। दक्षिण मध्य रेलवे के महाप्रबंधक गजानन माल्या ने लोगों को ऐसे धोखेबाजों के झांसे में आने से बचने के लिए आगाह किया। --आईएएनएस एसजीके

अन्य खबरें

No stories found.