बिना अनुमति धार्मिक आयोजन कराना पड़ा भारी

 बिना अनुमति धार्मिक आयोजन कराना पड़ा भारी
religious-events-had-to-be-held-without-permission

रुद्रप्रयाग, 07 मई (हि.स.)। कोरोना संक्रमण की द्वितीय लहर की रोकथाम को लेकर शासन-प्रशासन स्तर से हर दिन दिशा-निर्देश प्राप्त हो रहे हैं। संक्रमित लोगों को बचाने में स्वास्थ्य विभाग तथा नियमों का पालन कराने में पुलिस व प्रशासनिक अमला दिन-रात एक किए हुए है। बावजूद इसके अभी भी कुछ लोग ऐसे हैं, जो अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं। महामारी के इस संकट भरे दौर में जहां बड़े आयोजनों को टाला जा रहा है, वहीं कुछ लोगों द्वारा इन आयोजनों की नियमानुसार अनुमति लेकर सीमित संख्या में मेहमानों को बुलाकर अपने आयोजन को पूर्ण किया जा रहा है। मगर कुछ लोग ऐसे हैं जिन्हें शासन-प्रशासन द्वारा जारी नियमों से कोई फर्क नहीं पड़ता। ऐसा ही एक वाकया ग्राम बीना तहसील रुद्रप्रयाग में घटित हुआ। जहां पर दो भाइयों ने बिना अनुमति के धार्मिक आयोजन करके अनावश्यक भीड़ एकत्र की, जिस पर उनके विरुद्ध चौकी घोलतीर कोतवाली रुद्रप्रयाग में भादवि, आपदा प्रबन्धन अधिनियम तथा महामारी अधिनियम के तहत सुसंगत धाराओं में अभियोग पंजीकृत किया गया है। दूसरी ओर कोरोना संक्रमण की द्वितीय लहर से बचने को लेकर शासन-प्रशासन द्वारा जारी गाइडलाइनों का पालन न करने पर बिना मास्क के कुल 1,688 व्यक्तियों का चालान कर 3,66,100 रुपये शमन वसूला गया। शारीरिक दूरी का पालन न करने पर कुल 2,551 व्यक्तियों का चालान कर 2,90,400 रुपये शमन वसूला गया। पुलिस अधिनियम की धारा 81 व 83 का उल्लंघन करने पर 73 व्यक्तियों का चालान कर 43,750 रुपये शमन वसूला गया है। इस तरह से अब तक कुल 7,00250 रुपये शमन वसूलते हुए राजकोष में जमा किया गया है। बिना मास्क पहने व्यक्तियों का अब तक चालान करने के उपरान्त कुल 6,752 मास्क निःशुल्क वितरित किये गये हैं। हिन्दुस्थान समाचार/रोहित