एसडीएम ऑफिस का स्टाफ बताकर कारोबारी से वसूली, चार गिरफ्तार

एसडीएम ऑफिस  का स्टाफ बताकर कारोबारी से वसूली, चार गिरफ्तार
recovery-from-businessman-after-saying-that-sdm-office-staff-four-arrested

नई दिल्ली, 13 मई (हि.स.)। बाहरी दिल्ली के नांगलोई इलाके में खुद को एसडीएम ऑफिस का स्टाफ बताकर एक कारोबारी से वसूली का मामला सामने आया है। आरोपित पीड़ित की फैक्टरी में पहुंचकर कर्मचारियों के मास्क न लगाने पर एक लाख रुपये जुर्माने के मांग रहे थे। पीड़ित ने कुछ रुपये देकर मामला रफा-दफा करने का प्रयास किया, लेकिन आरोपित नहीं मानें तो पीड़ित ने मामले की सूचना पुलिस को दे दी। पुलिस ने मौके से दो महिलाओं समेत कुल चार आरोपितों को दबोच लिया जबकि दो फरार होने में कामयाब हो गए। पकड़े गए आरोपितों की पहचान अनिल वर्मा (36), गोविंद (35), सुमन (29) और प्रीति भारद्वाज (30) के रूप में हुई है। पुलिस के मुताबिक आरोपित अनिल के पास एक न्यूज चैनल का फर्जी आईकार्ड मिला है। गोविंद व सुमन के पास एक एनजीओ के आईकार्ड मिले हैं। पुलिस ने इनके पास से एक अर्टिगा गाड़ी, 12 हजार व अन्य सामान भी बरामद किया है। आरोपितों से पूछताछ कर मामले की जांच की जा रही है। बाहरी जिले के डीसीपी परविंदर सिंह ने बताया कि बुधवार को नांगलोई थाना पुलिस को रोहिणी निवासी कारोबारी प्रदीप पांचाल ने जबरन वसूली की शिकायत दी थी। पीड़ित ने थाने को बताया कि उसकी ट्रांसफार्मर रेडिएटर बनाने की फैक्टरी है। बुधवार को उनकी फैक्टरी में दो महिलाएं व चार लड़के आए। आरोपितों ने खुद को एसडीएम ऑफिस का स्टफ बताया। कर्मचारियों की जांच करने पर उन्होंने कहा कि इन लोगों ने मास्क नहीं लगाया हुआ है। इसलिए एक लाख रुपये जुर्माना देना होगा। सूचना मिलते ही थाने का स्टाफ मौके पर पहुंच गया। पुलिस को देखते ही दो आरोपित रवि और रोहित वहां से भाग गए। पुलिस ने सभी से अपने-अपने आईकार्ड मांगे तो वह नहीं दिखा पाए। पीड़ित ने बताया कि वह फरार हुए आरोपितों को 20 हजार रुपये दे भी चुका था। पुलिस पकड़े गए आरोपितों से पूछताछ कर फरार आरोपितों की तलाश कर रही है। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी

अन्य खबरें

No stories found.