तपस्वी बाबा के खिलाफ दुष्कर्म मामला:चार दिन बीत जाने के बाद भी पीड़िताओं के बयान और मेडिकल नहीं हुआ

तपस्वी बाबा के खिलाफ दुष्कर्म मामला:चार दिन बीत जाने के बाद भी पीड़िताओं के बयान और मेडिकल नहीं हुआ
rape-case-against-tapasvi-baba-even-after-four-days-the-victim39s-statements-and-medical-were-not-done

जयपुर, 07 मई (हि.स.)। भांकरोटा थाना इलाके में रहने वाले बाबा योगेंद्र मेहता के खिलाफ दुष्कर्म मामला दर्ज हुए चार दिन बीत चुके है, लेकिन इसके बावजूद पुलिस पीड़िताओं के बयान और मेडिकल नहीं करवा पाई है। प्रारम्भिक जांच में सामने आया कि पुलिस के कई अधिकारी भी बाबा के दर पर धोक लगाने के लिए आश्रम में जाते हैं। अभी तक तपस्वी बाबा को भांकरोटा थाने में बुलाकर पूछताछ भी नहीं की है। भांकरोटा थानाधिकारी मुकेश चौधरी से इस बारे में बात की गई तो कहा गया कि पुलिस मामले की जांच कर रही है। इधर पीड़ित परिवार मुताबिक उन पर समझौता करने का दबाव बनाया जा रहा है। सामने आया कि आश्रम में बाबा के पास कई सेविकाएं भी रहती है, जो पीडित महिलाओं को आश्रम में बाबा के पास लेकर जाती थी। आश्रम में रोजाना रात को बाबा के पास आठ से दस महिलाओं को रोका जाता था। महिलाओं को पहले ही रूकने के लिए हिदायत दी जाती थी। इसके बाद उन्हें आश्रम सेवा कार्य में लगाया जाता था। तपस्वी बाबा आश्रम में महिलाओं से यहीं कहते कि वह ही भगवान है, वह उनकी सेवा करो। उन्हें रात को आश्रम में रोक कर एक गोली देकर कहा जाता था कि यह प्रसाद हैं, ले लो और खाकर ईश्वर का ध्यान करो। कुछ देर बाद महिलाओं को नशा होने पर बाबा ने उसके साथ दुष्कर्म करता था। महिलाओं द्वारा विरोध करने पर बाबा द्वारा धमकी दी जाती थी कि किसी को कुछ नहीं कहना है, नहीं तो बर्बाद हो जाओगें। पीडित महिलाएं छह महीने के बाद दोबारा से आती तो बाबा उनसे फिर जबरन दुष्कर्म करता। पति और बेटी को आश्रम में ले जाने लगे तो पीड़िता ने उसे जाने से मना करने पर पूरे मामले का खुलासा हुआ। गौरतलब है कि तपस्वी बाबा योगेंद्र मेहता ने खुद को भगवान बता कर आश्रम में आने वाली महिलाओं के साथ दुष्कर्म किया था। इस संबंध में आरोपित तपस्वी बाबा योगेंद्र मेहता के खिलाफ चार महिलाओं ने दुष्कर्म किए जाने के आरोप लगाते हुए थाने में मामला दर्ज करवाया है। हिन्दुस्थान समाचार/दिनेश/ ईश्वर