एनसीईआरटी की किताबों की पाइरेसी के आरोप में प्रिंटिंग प्रेस का मालिक गिरफ्तार

 एनसीईआरटी की किताबों की पाइरेसी के आरोप में प्रिंटिंग प्रेस का मालिक गिरफ्तार
printing-press-owner-arrested-for-piracy-of-ncert-books

नई दिल्ली, 5 अक्टूबर (आईएएनएस)। नेशनल काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च एंड ट्रेनिंग (एनसीईआरटी) की किताबों की पाइरेसी में कथित संलिप्तता को लेकर प्रिंटिंग प्रेस के मालिक को पूर्वी दिल्ली के शाहदरा इलाके से गिरफ्तार किया गया है। दिल्ली पुलिस ने यह जानकारी दी। पुलिस के अनुसार, 38 वर्षीय मनोज जैन को 34 लाख रुपये की मुद्रित सामग्री के साथ गिरफ्तार किया गया। पुलिस ने बताया कि शाहदरा इलाके में पूर्वी नाथू कॉलोनी में जैन के प्रिंटिंग प्रेस में 18 सितंबर को छापेमारी की गई थी और भारी मात्रा में पायरेटेड तैयार और अर्ध-निर्मित एनसीईआरटी की किताबें बरामद की गई थीं। हालांकि आरोपी तब भागने में कामयाब हो गया था। इसके बाद 19 सितंबर को भारतीय दंड संहिता की धारा 420, 468, 473 और कॉपीराइट अधिनियम की धारा 63, 65 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई। पुलिस ने कहा कि शिकायत मिलने के बाद यह कदम उठाया गया था जिसमें आरोप लगाया गया था कि कई स्कूल कथित तौर पर छात्रों को निजी प्रकाशकों की महंगी किताबें खरीदने के लिए मजबूर कर रहे थे। पुलिस ने कहा कि स्कूलों के प्रबंधन को कथित तौर पर अपनी किताबें लिखने के बदले प्रकाशकों द्वारा मोटी रकम का लाभ मिल रहा था। इसके चलते एनसीईआरटी की किताबों की मांग अचानक से बढ़ गई। बेईमान तत्वों ने पायरेटेड किताबें छपवाकर स्थिति का फायदा उठाया और विक्रेताओं को अधिक लाभ मार्जिन देकर उन्हें फंसाया। पुलिस उपायुक्त क्राइम ब्रांच राजेश देव ने कहा, एक सूचना प्राप्त हुई थी कि बाजार में खराब गुणवत्ता वाली पायरेटेड पुस्तकों की आपूर्ति सस्ती दरों पर की जा रही है, जिससे एनसीईआरटी को भारी राजस्व हानि हो रही है। ऑफसेट इकाई विभिन्न विषयों की छठी से बारहवीं कक्षा तक की पायरेटेड एनसीईआरटी पुस्तकें प्रकाशित कर रही है। --आईएएनएस आरएचए/एएनएम

अन्य खबरें

No stories found.