police-filed-a-case-against-rajji
police-filed-a-case-against-rajji
क्राइम

पुलिस ने किया रज्जी के खिलाफ मुकदमा दर्ज

news

-आरोपित और इस्तेमाल बंदूक की तलाश में जुटी पुलिस -एसडीएम ने दिया रेगुलर पुलिस को मामला सौंपने का आदेश नई टिहरी, 05 अप्रैल (हि.स.)। बाल गंगा तहसील के कुंडी गांव के जंगलों में शिकार पर गए सात दोस्तों में से चार की मौत के मामले में गोली लगने से मरे संतोष के चाचा की तहरीर पर राजस्व पुलिस ने फरार राज्जी उर्फ राजीव के खिलाफ आईपीसी की धारा 304 ए, 306 तथा 201 में मुकदमा दर्ज कर लिया है। पटवारी चौकी विनयखाल के राजस्व पुलिस के उप निरीक्षक मनोहर लाल ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मृतक संतोष के चाचा बलबीर की तहरीर के आधार पर रज्जी के खिलाफ लापरवाही से मौत, साक्ष्यों से छेड़छाड़ और आत्महत्या के लिए उकसाने के मामलों में मुकदमा पंजीकृत कर लिया गया है। रज्जी और इस्तेमाल बंदूक की तलाश की जा रही है। उल्लेखनीय है कि 3 अप्रैल की रात जंगल में शिकार करने गये सात दोस्तों में से संतोष की गोली लगने से मौत हुई थी। अर्जुन, पंकज व सोबन की विषाक्त पदार्थ खाने से मौत हुई थी। इस घटना के बाद से खवाड़ा गांव का रहने वाला रज्जी बंदूक के साथ फरार है। दो अन्य साथी कुंडी गांव में ही मौजूद हैं। चारों युवकों के शव राजस्व टीम व परिजन वापस कुंडी गांव लेकर आ रहे हैं। उनके पैतृक घाट बालगंगा नदी में अंतिम संस्कार किया जाएगा। रज्जी के ठिकानों पर दबिशः बालगंगा के तहसीलदार राजेन्द्र सिंह रावत ने बताया कि रविवार शाम को राजस्व पुलिस की टीम राजीव को ढूंढने उसके संभावित ठिकानों पर गई लेकिन उसका कहीं भी पता नहीं लग पाया है। साथ ही हादसे में इस्तेमाल बंदूक भी बरामद नहीं हो पाई है। इस बीच मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए एसडीएम एफआर चौहान ने मामले को रेगुलर पुलिस को सौंपने के आदेश दिए हैं। फिलहाल पुलिस जीवित बचे दो युवकों राहुल व सुमित के बयान के आधार पर तफ्तीश कर रही है। अधिकारियों का कहना है कि हादसे के खुलासे का पूरा दारोमदार रज्जी की गिरफतारी पर टिका है। रज्जी के हाथ लगने के बाद ही हादसे की कड़ियां खुल पाएंगी। तब साफ होगा कि आखिर किन परिस्थतियों में गोली चली। किन परिस्थितियों में तीन युवकों को जहर खाना पड़ा। हिन्दुस्थान समाचार/प्रदीप डबराल/मुकुंद