more-than-two-thousand-cctvs-based-on-artificial-intelligence-will-be-installed-on-major-routes-of-jaipur
क्राइम

जयपुर के प्रमुख मार्गों पर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित दो हजार से अधिक सीसीटीवी लगेंगे

news

जयपुर,30 जनवरी (हि.स.)। राजधानी जयपुर में पुलिस की ओर से स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत प्रमुख मार्गों पर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित दो हजार से अधिक सीसीटीवी लगाने जा रही है। इससे जयपुर में यातायात व्यवस्था तोे सुगम रहेगी और इसके अलावा बदमाशों को जल्द पकडने में सहायता मिलेगी। अतिरिक्त पुलिस कमिश्नर राहुल प्रकाश ने बताया कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित सीसीटीवी कैमरे राजधानी में लगाए जाएंगे। वह अत्याधुनिक तकनीक से युक्त होंगे और अपराध नियंत्रण में भी काफी कारगर सिद्ध होंगे। यातायात नियमों का उल्लंघन करने वाले वाहन चालकों का चालान भी सीसीटीवी के माध्यम से जनरेट होगा। इसके साथ ही जयपुर ट्रैफिक पुलिस के सिस्टम के जरिए वाहन चालक के घर पर भेजा जाएगा। वहीं सीसीटीवी लगाने को लेकर विभिन्न कंपनियों के प्रतिनिधियों के साथ बातचीत की जा रही है और सबसे अपग्रेड कैमरे लगाने पर विचार किया जा रहा है। इसके साथ ही राजधानी में पीटीजेड (पैन टिल्ट जूम) कैमरे और एनपीआर (नंबर प्लेट रिकॉग्निशन) कैमरों की संख्या को बढ़ाने पर भी विचार किया जा रहा है. ऐसा करने पर अपराधियों की धरपकड़ काफी आसान हो जाएगी। पुलिस के लिए काफी उपयोगी साबित होंगे उन्होंने बताया कि राजधानी में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित उन्नत किस्म के जो नए कैमरे लगाए जा रहे हैं, वह पुलिस के लिए काफी उपयोगी साबित होंगे। अपराधिक गतिविधियों में प्रयुक्त की गई किसी कार का महज रंग और लोगो पता होने पर भी इन कैमरों के माध्यम से अपराधियों को गिरफ्तार किया जा सकेगा। यदि कार का केवल आधा नंबर भी किसी को मालूम हो तो उसके आधार पर भी बदमाशों को गिरफ्तार किया जा सकेगा। सिस्टम में कार का रंग, लोगो और आधा नंबर डालने पर उस रंग और लोगो की गाड़ी शहर में जहां भी होगी और जिन भी चौराहों से गुजरेगी, उसे लेकर ट्रैफिक कंट्रोल रूम में और अभय कमांड सेंटर में स्क्रीन पर एक पॉपअप शो होगा। जिसके चलते पुलिस यह पता लगा सकेगी कि वह गाड़ी शहर में किस स्थान पर चल रही है और उसे रोक कर बदमाशों को पकड़ना काफी आसान हो जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार/दिनेश/संदीप-hindusthansamachar.in