श्रम मंत्री व राजस्थान के कानून मंत्री को सिफारिशी कॉल करने वाला ग‍िरफ्तार
क्राइम

श्रम मंत्री व राजस्थान के कानून मंत्री को सिफारिशी कॉल करने वाला ग‍िरफ्तार

news

नई दिल्ली, 23 जुलाई (हि.स.)। कोरोना की वजह से हुए लॉकडाउन के बाद राजस्थान के एक युवक की नौकरी चली गई। बेरोजगार होने के बाद युवक ने दोबारा नौकरी पाने के लिए जो रास्ता चुना उसने उसे सलाखों के पीछे पहुंचा दिया। दरअसल आरोपी ने खुद को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह का निजी सचिव बताकर हरियाणा के श्रम मंत्री व राजस्थान के कानून मंत्री को सिफारिशी कॉल दी। आरोपी ने एक युवक (खुद के लिए) को नौकरी दिलवाने की सिफारिश की। शक होने पर जांच हुई, बाद में गृहमंत्रालय की ओर से मामले की शिकायत दिल्ली पुलिस से की गई। दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की। छानबीन के बाद राजस्थान के मुंडावर, अलवर जिले से आरोपी को दबोच लिया। इसकी पहचान संदीप चौधरी (25) के रूप में हुई है। पुलिस ने आरोपी के पास से वारदात में इस्तेमाल मोबाइल फोन व सिमकार्ड भी बरामद कर लिया है। पुलिस के मुताबिक पिछले दिनों हरियाणा के श्रम मंत्री अनुप धनक और राजस्थान के कानून मंत्री टीकाराम जूली के पास एक शख्स का कॉल आया। कॉलर ने खुद को अमित शाह का निजी सचिव बताकर अलवर निवासी युवक संदीप चौधरी की नौकरी लगवाने की सिफारिश की। शक होने पर मंत्रियों ने दिल्ली ग़ृह मंत्रालय में फोनकर पूछताछ की तो ऐसे किसी निजी सचिव होने की बात से मना कर दिया गया। मामले को गंभीरता से लेते हुए गृह मंत्रालय ने मामले की शिकायत दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा से की। पुलिस ने छानबीन के बाद बुधवार को आरोपी संदीप को उसके गांव जसाई, मंडावर, अलवर से गिरफ्तार कर लिया। उसके पास से वारदात में इस्तेमाल मोबाइल व सिमकार्ड भी बरामद कर लिया गया। पुलिस की पूछताछ में आरोपी संदीप ने बताया कि वह बीए-बीएड है। कोविड से पहले वह धारूहेड़ा में हीराहोंडा में नौकरी करता था। नौकरी जाने पर वह बेरोजगार हो गया। उसने दोबारा नौकरी पाने की योजना बनाई। संदीप ने हरियाणा ओर राजस्थान के मंत्रियों के मोबाइल नंबर का जुगाड़ किया। उसे यकीन था कि दोनों मंत्रियों की सिफारिश पर उसे नौकरी जरूर मिल जाएगी। दोनों मंत्रियों को कॉल करने के लिए संदीप ने अपनी गर्लफ्रेंड के नाम पर एमटीएमएल का एक सिमकार्ड निकलवाया। इसके बाद खुद को गृह मंत्री का पीए बताकर दोनों मंत्रियों को खुद की सिफारिश के लिए कॉल की। बता दें कि ठीक इसी तरह के एक मामले में अपराध शाखा ने 18 जुलाई को अभिषेक द्विवेदी नामक शख्स को गिरफ्तार किया था। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी-hindusthansamachar.in