नौकरी के नाम ठगी मामले की जांच कोलकाता पुलिस खुफिया टीम ने संभाली

नौकरी के नाम ठगी मामले की जांच कोलकाता पुलिस खुफिया टीम ने संभाली
kolkata-police-intelligence-team-took-over-the-investigation-of-fraud-case-in-the-name-of-job

कोलकाता, 16 जून (हि. स.)। सिंचाई विभाग के वित्तीय धोखाधड़ी मामले में गिरफ्तार राखल बेरा की जांच कोलकाता पुलिस के खुफिया विभाग को सौंप दी गई है। बेरा भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी के करीबी माने जाते हैं। छह जून को मानिकतला पुलिस ने रखाल को नौकरी दिलाने के नाम पर पैसे के गबन के आरोप में गिरफ्तार किया था। जांच के खुफिया विभाग को सौंपे जाने के साथ ही मामले के दस्तावेज खुफिया विभाग को सौंपने की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। उल्लेखनीय है कि अशोकनगर निवासी सुजीत दास ने इस साल 28 फरवरी को मानिकतला थाने में राखल के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी। इसी आधार पर उसे गिरफ्तार किया गया था। सुजीत के मुताबिक जुलाई से सितंबर 2019 के बीच राखल ने सिंचाई और जल परिवहन विभाग के ग्रुप डी में नौकरी दिलाने के नाम पर उससे दो लाख रुपये लिए। उन्होंने आरोप लगाया कि राखल और उनके सहयोगियों ने 2019 में मानिकतला मेन रोड पर साहा इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूक्लियर फिजिक्स कोऑपरेटिव हाउसिंग सोसाइटी में नौकरी के लिए विज्ञापन भी दिया था। अब कोलकाता पुलिस की खुफिया टीम इस मामले में पूछताछ करेगी। हिन्दुस्थान समाचार/ओम प्रकाश/गंगा