गड्ढे के पानी मे डूबने से चार बच्चों की मौत

 गड्ढे के पानी मे डूबने से चार बच्चों की मौत
four-children-die-due-to-drowning-in-pit-water

बेतिया, 09 जून (हिस)। पश्चिम चंपारण जिला के मटियरिया थाना क्षेत्र के हरदी बेलहवा गांव में बीती रात सुनील ईट उद्योग परिसर में खोदे गए गड्ढे के पानी मे डूबने से चार बच्चों की मौत हो गई। जिससे पूरे गांव में मातमी सन्नाटा छाया हुआ है। घटना के संबंध में बुधवार को यहाँ बताया गया कि दिनेश यादव का 5 वर्षीय पुत्र आदित्य कुमार, मनोज महतो का 7 वर्षीय पुत्र प्रिंस, कुमार, प्रल्हाद महतो का 7 वर्षीय पुत्र कार्तिक कुमार तथा जितेंद्र महतो का 9 वर्षीय पुत्र गोविंद कुमार चिमनी के तरफ खेलने गया था। शाम करीब 7 बजे तक घर पर नहीं लौटे तो परिवार के लोग चिंतित होकर उनको खोजने निकल गए। खोजते खोजते रात्रि करीब 8 बजे उन चारों बच्चों का शव चिमनी के परिसर के समीप स्थित गड्ढे में मिला। यह खबर सुनते ही गांव में कोहराम मच गया। ग्रामीणों ने तुरंत इसकी सूचना मटियरिया थाना , गौनाहा सीओ अमित कुमार, डीएसपी कुंदन कुमार को दी। सभी आला अधिकारी सहित एलआरडीसी अजय कुमार सिंह भी खराब मौसम के बावजूद मंगलवार की रात्रि करीब 11:30 बजे घटनास्थल पर पहुंचे गये। गौनाहा, सहोदरा, मटियरिया, पुलिस रात भर कैंप घटनास्थल पर जमी रही। ताकि स्थिति अनियंत्रित नहीं हो सके। इधर आक्रोशित ग्रामीण चिमनी मालिक सुनील कुमार अथवा उनके भाई अजय कुमार को बुलाने पर अड़े हुए थे। उनका कहना था की जब तक वे लोग नहीं आएंगे हम लोग बच्चों का लाश नहीं उठने देंगे। गांव की महिला व पुरुष अपनी जिद पर अड़े रहे। ग्रामीण संजय कुमार, ने बताया कि चिमनी मालिक का सिपाही झोटील यादव उन बच्चों को खदेड़ने लगे जिससे वे बच्चे अपनी जान बचाने के लिए 8 से 10 फीट गहरे गड्ढे के पानी में कूद गए। जिससे उनकी मौत हो गई। जबकि चिमनी मालिक के समर्थकों का कहना था कि चारों बच्चों कपड़ा निकाल कर गड्ढे में नंगे स्नान कर रहे थे। ज्यादा पानी में स्नान करते हुए सभी चारों बच्चे गड्ढे में डूब गए। जिससे उनकी मौत हो गई है इधर पुलिस प्रशासन चारों बच्चे के शव को पोस्टमार्टम कराने के लिए ले जाने के प्रयास में लगी रही। स्थिति तनावपूर्ण होते देख पुलिस प्रशासन को गौनाहा, मटियरिया, सहोदरा, शिकारपुर, इनरवा,साठी सहित आधे दर्जन से अधिक थानों का सहारा लेना पड़ा। शिकारपुर डीएसपी कुंदन कुमार, एलआरडीसी अजय कुमार सिंह, इंस्पेक्टर रामाश्रय यादव को भी कठिन मशक्कत करना पड़ा। तत्पश्चात शव को ,पोस्टमार्टम हेतु बेतिया भेजा गया। घटना के बाद क्षेत्र के गांवों में मातम छा गया है। विदित हो कि गांव के लोग यह भी कह रहे थे कि मृतक प्रिंस कुमार के पिता मनोज महतो, मृतक कार्तिक कुमार के पिता प्रहलाद महतो, मृतक गोविंद महतो के पिता जितेंद्र महतो जो दूसरे प्रदेश में मजदूरी करने गए थे। बुधवार को 12:00 बजे दिन तक अपने घर वापस नहीं आ पाए थे। उनके परिजनों ने बताया कि वे तीनों लोग रिजर्व गाड़ी से गोरखपुर से चले हैं आने के बाद बच्चों का अंतिम संस्कार किया जाएगा। प्रहलाद महतो व मनोज महतो दोनों सगे भाई हैं। दोनों का एक एक पुत्र डूब कर मर है। इधर डीएसपी कुंदन कुमार का कहना है कि मृतक के परिजनों द्वारा थाने में आवेदन लिखकर देने की बात बतायी है। आवेदन मिलने के बाद अभियुक्तों की धरपकड़ की जाएगी। उन्होंने कहा कि चिमनी मालिक पर करवाई जरूर होगी। जरूरत पड़ी तो चिमनी को सील किया जाएगी। हिन्दुस्थान समाचार / अमानुल हक/चंदा