फिरोजाबादः विरोधियों को फंसाने के लिये रचा था खुद के अपहरण का झूठा नाटक, मिली जेल

फिरोजाबादः विरोधियों को फंसाने के लिये रचा था खुद के अपहरण का झूठा नाटक, मिली जेल
firozabad-a-false-drama-of-kidnapping-himself-was-created-to-implicate-the-opponents-got-jail

- फरार पत्नी व भाई की पुलिस तलाश में जुटी फिरोजाबाद, 11 जून (हि.स.)। सर्विलान्स टीम व थाना एका पुलिस ने संयुक्त कार्यवाही करते हुये जमीनी रंजिश के चलते विरोधियों को फसाने के उद्देश्य से अपहरण का झूठा नाटक रचने वाले मुख्य साजिशकर्ता को गिरफ्तार किया है। जबकि उसकी पत्नी व भाई फरार है। पुलिस ने शुक्रवार को खुलासा कर आरोपित को जेल भेजा है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार ने बताया कि 12 जनवरी 2021 को थाना एका के गांव मोहनपुर निवासी चन्द्रवती ने पांच व्यक्तियों के खिलाज्फ अपने पति भूप सिंह के अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया था। उन्होंने बताया कि इस घटना के खुलासे के लिये थाना प्रभारी एका व सर्विलान्स टीम को लगाया गया था। गुरूवार को थाना प्रभारी एका नरेन्द्र शर्मा व सर्विलांस प्रभारी विक्रान्त तौमर को सूचना मिली कि जिस व्यक्ति के अपहरण भूप सिंह के अपहरण की रिपोर्ट दर्ज करायी गई है वह भूप सिंह छुपने के उद्देश्य से ग्राम नगला सैय्या, थाना पिलुआ, जिला एटा में स्वंय का प्लाॅट खरीकर मकान बना रहा है। सूचना पर पुलिस जैसे ही बताये गये स्थान पर पहुंची तो एक व्यक्ति पुलिस को देखकर खेतों की तरफ भागने लगा। पुलिस ने उसे पीछा कर पकड़ लिया। उन्होंने बताया कि जब पकड़े गये व्यक्ति से भागने का कारण पूछा तो उसने बताया कि मेरा नाम भूप सिंह है तथा मेरे द्वारा अपने विरोधियों को फसाने के उद्देश्य से अपने अपहरण का झूठा मुकदमा थाना एका पर लिखाया गया है। तभी से मैं यहां छुपकर रह रहा हूं। पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में गिरफ्तार अभियुक्त ने बताया कि कि मेरे ही गांव के भूपेन्द्र, अजय, दीनदयाल, अन्शुल, नीरज से मेरा जमीनी विवाद चल रहा है तथा कई बार मारपीट भी हो चुकी है। मेरे विरोधियों द्वारा पूर्व में मेरे व मेरे भाईयों के खिलाफ मुकदमा लिखाया गया था। जिसमें मैं व मेरे दो भाई पूर्व में जेल भी जा चुके हैं। जेल से छूटने के बाद मैं अपने विरोधियों को किसी भी तरह जेल भिजवाना चाहता था। इसलिये मेंने अपने भाई नौबत व अपनी पत्नी चन्द्रवती के साथ मिलकर अपने अपहरण का नाटक किया तथा मेरे द्वारा ट्यूबल से कबूतर लाकर उसकी गर्दन काटकर अपने सोने के स्थान पर चारपाई के आसपास खून डाल दिया। जिससे पुलिस घटना को सही समझे और अपनी पत्नी को थाने भेजकर अपने विरोधियों के खिलाफ अपने अपहरण का झूठा मुकदमा लिखा दिया। एसएसपी के अनुसार गिरफ्तार अभियुक्त की फरार पत्नी चन्द्रवती व भाई नौबत की गिरफ्तारी के लिये पुलिस टीमें काम कर रही है। जल्द ही उन्हें भी गिरफ्तार कर जेल भेजा जायेगा। पुलिस की निष्पक्ष कार्यप्रणाली से पांच निर्दोष लोग जेल जाने से बचे है। हिन्दुस्थान समाचार/कौशल