डोनाल्ड ट्रम्प और अमिताभ बच्चन के नाम से फर्जी कोविड ई-पास, शिमला में एफआईआर दर्ज

डोनाल्ड ट्रम्प और अमिताभ बच्चन के नाम से फर्जी कोविड ई-पास, शिमला में एफआईआर दर्ज
fake-kovid-e-pass-in-the-name-of-donald-trump-and-amitabh-bachchan-fir-lodged-in-shimla

शिमला, 07 मई (हि.स.)। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और बॉलीबुड स्टार अमिताभ बच्चन के नाम से फर्जी कोविड ई-पास बनाने के मामले में शिमला पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है। सूचना प्रौद्योगिकी विभाग की शिकायत पर शुक्रवार को छोटा शिमला थाने में आईपीसी की धाराओं 419,468,471, 66 डी आईटी एक्ट और 54 डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट के अंतर्गत एफआईआर दर्ज हुई है। शिकायत में कहा गया है कि डोनाल्ड ट्रम्प और अमिताभ बच्चन के नाम पर जिला प्रशासन द्वारा गलत ई-पास जारी करने के बारे में सोशल मीडिया और समाचार चैनल पर गलत सूचना फैलाई जा रही है। दोनों के फर्जी ई-पास बनाने के लिए एक ही मोबाइल नंबर और आधार कार्ड का इस्तेमाल किया गया है। दरअसल किसी अज्ञात व्यक्ति ने अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और सदी के महानायक कहे जाने वाले अमिताभ बच्चन के नाम पर हिमाचल प्रदेश आने के लिए आवेदन किया। माना जा रहा है कि इसे एक मजाक के तौर पर किया गया है, लेकिन इससे कहीं न कहीं सवाल खड़े होते हैं कि लोग इस संकट के समय में सरकार और प्रशासन के साथ किस तरह का भद्दा मजाक कर रहे हैं। जहां कोरोना की दूसरी लहर के बीच सभी लोग त्राहि-त्राहि कर रहे हैं. वहीं, कुछ लोगों को ऐसे समय में भी मजाक सूझ रहा है। इस बीच राज्य सरकार ने लोगों से कोविड पंजीकरण पोर्टल का दुरूपयोग न करने का आग्रह किया है। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने स्पष्ट किया है कि कोविड आॅनलाइन पंजीकरण पोर्टल स्थापित किया गया है, ताकि राज्य में प्रवेश करने वाले लोगों को सुविधा प्रदान की जा सके। उन्होंने कहा कि पास नम्बर एचपी-2563825 और एचपी-2563287 के दो पंजीकरण डोनाल्ड ट्रम्प और अमिताभ बच्चन के नाम पर किए गए हैं जिनमें एक ही मोबाइल नंबर-9882810033 है। दोनों पंजीकरण अफवाह फैलाने के इरादे से किए गए प्रतीत होते हैं क्योंकि दोनों के पंजीकरण भी नकली लगते हैं। यह इस तथ्य से स्पष्ट है कि आवेदक द्वारा इन दोनों पंजीकरणों के लिए एक ही पहचान पत्र अपलोड किया गया है। प्रवक्ता ने आगे कहा कि यह पंजीकरण के समय आवेदक द्वारा की गई घोषणा का स्पष्ट उल्लंघन है। इस पोर्टल का दुरुपयोग पंजीकरण प्रणाली होने के दोहरे उद्देश्य, प्रदेश में आगंतुकों को बिना परेशानी प्रवेश और इन आगंतुकों के लिए कोविड प्रोटोकाॅल लागू करने के लिए जिला प्रशासन को आगंतुकों की वास्तविक समय की जानकारी प्रदान करने के उद्देश्य में बाधा है। हिन्दुस्थान समाचार/उज्ज्वल/सुनील