doctor-lab-assistant-arrested-with-remedicivir-injection
doctor-lab-assistant-arrested-with-remedicivir-injection
क्राइम

रेमडिसिविर इंजेक्शन के साथ डाॅक्टर, लैब सहायक गिरफ्तार

news

नई दिल्ली, 29 अप्रैल (हि.स.)। कोरोना काल में कुछ लोग आपदा को अवसर में बदलने में जुटे हैं। ऐसे लोगों में अस्पतालों में काम करने वाले डॉक्टर और लैब सहायक भी शामिल हैं। बाहरी उत्तरी जिला पुलिस की नारकोटिक्स सेल ने गुरूवार को कालाबाजारी करने वाले एक डॉक्टर और एक लैब सहायक को रेमडिसिविर इंजेक्शन के साथ गिरफ्तार किया है। ये आरोपी 35 हजार रूपए में खरीद कर 45 हजार रूपए में कालाबाजारी करते थे। इन दोनों की निशानदेही पर पुलिस ने आठ रमेडिसिविर इंजेक्शन जब्त किए हैं। आरोपियों की पहचान डाॅक्टर रोहिणी निवासी 32 साल के विष्णु अग्रवाल और राजौरी गार्डन निवासी 22 साल के निखिल गर्ग के तौर पर हुई है। बाहरी उत्तरी जिले के डीसीपी राजीव रंजन सिंह ने गुरूवार को बताया कि जिला पुलिस को सूचना मिली थी कि कुछ लोग रेमडिसिविर इंजेक्शन की कालाबाजरी कर रहे हैं। सूचना के आधार पर जिला पुलिस के नारकोटिक्स सेल और एसटीएफ की एक टीम गठित की गई। टीम ने सूचना के आधार पर बरवाला चैक के पास से विष्णु अग्रवाल को रोका। उनकी कार की जब तलाशी ली गई तो उसमें तीन इंजेशक्न मिले। उसके बारे में जानकारी मांगी गई तो वह पुख्ता दस्तावेज नहीं दिखा पाए। उसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। उन से की गई पूछताछ के बाद पुलिस ने लैब सहायक निखिल गर्ग को गिरफ्तार किया गया। उसके पास से पांच रेमडिसिविर इंजेक्शन जब्त किया गया। पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि इन्होंने 35 हजार रूपए में रोहिणी में रहने वाले एक नवीन नामक शख्स से खरीदी थी। फिलहाल पुलिस टीम नवीन की तलाश में जुटी है। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी