कांवटिया अस्पताल से कोरोना वैक्सीन चोरी

कांवटिया अस्पताल से कोरोना वैक्सीन चोरी
corona-vaccine-stolen-from-contia-hospital

जयपुर,14 अप्रैल (हि.स.)। राजधानी जयपुर के शास्त्रीनगर थाना इलाके में स्थित हरिबक्श कावंटिया अस्पताल से कोरोना वैक्सीन की 32 शीशियां चोरी हाे गई। अस्पताल प्रबंधन द्वारा खुद के स्तर पर जांच करवाने के वाबजूद चोर नहीं पकड़ा गया तो अब पुलिस का सहारा लिया गया है। इस संबंध में अस्पताल प्रशासन की ओर से वैक्सीन चोरी होने का मामला थाने में दर्ज करवाया गया है। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच पडताल में जुटी है। एक शीशी (वायल) में 10 डोज होती है। इस लिहाज से 32 शीशियों में रखी 320 डोज चोरी गए हैं। संभवतया देश में कोरोना वैक्सीन की चोरी का यह पहला मामला है। शास्त्री नगर थाना प्रभारी दिलीप सिंह ने बताया कि कोरोना वैक्सीन 12 अप्रैल को गुम हुई थी, जिसके दो दिन बाद बुधवार की सुबह मामला दर्ज करवाया है कि सीएमएचओं ऑफिस से मिली भारत बायोटेक की बनाई कोवैक्सीन की 32 शीशी गुम हो गई हैं। इसके अलावा जानकारी में सामने आया कि सेंटर पर आने वाली वैक्सीन का पूरा रिकॉर्ड रहता है। इसलिए स्टोर से ही टीके गायब होने की आशंका है। वहीं अस्पताल प्रबंधन की तरफ से मिली शिकायत के बाद मौके पुलिस ने जब सीसीटीवी कैमरों की जांच की तो स्टोर के आसपास के सभी कैमरे खराब मिले। पुलिस अस्पताल में कर्मचारियों से पूछताछ कर चोरी का खुलासे का प्रयास कर रही है। इधर कोरोना वैक्सीन चोरी होने के मामले में हरिबक्श कावंटिया अस्पताल अधीक्षक डॉ. लीनेश्वर हर्षवर्धन की ओर से अपने स्तर पर जांच कराई गई तो जांच में सामने आया कि वैक्सीन स्टोर से ही गायब हुई है। अस्पताल में मौजूद वैक्सीन सेंटर से दूसरे सेंटरों को भी वैक्सीन भेजी जाती है, जिसका पूरा रिकॉर्ड रखा जाता है। इसकी पड़ताल से पता चला है कि स्टोर में वैक्सीन की इन्वेंटरी में पूरी मात्रा दिखाई गई है, लेकिन स्टॉक में वैक्सीन गायब है। हरिबक्श कावंटिया अस्पताल अधीक्षक डॉ. लीनेश्वर हर्षवर्धन ने बताया कि 12 अप्रेल को सेंटर को डोज मिली थी। देर शाम को अस्पताल से उन्हें सूचना मिली की स्टॉक में कोरोना वैक्सीन की 32 वाइल (320 डोज) कम है। इसके बाद तुरंत विभाग के उच्च अधिकारियों को सूचना दी गई और उक्त मामले की जांच के लिए अस्पताल में एक कमेटी बनाई गई। इसके बाद बुधवार को थाने में अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया। ऐसे में इस घटना में अस्पताल के कर्मचारी का हाथ होने की आंशका भी जताई जा रही है। स्वास्थ्य विभाग के उच्च अधिकारियों को सूचना दे दी गई है। उसके आधार पर ही अब जांच होगी। उसके बाद ही कुछ कहा जा सकता है। वहीं सीएमएचओ डॉ नरोत्तम शर्मा का कहना है किए उक्त मामले की जांच अब पुलिस करेगी। मामला दर्ज हो चुका है। उसके आधार पर ही कारण स्पष्ट हो पाएंगे। हिन्दुस्थान समाचार/दिनेश/ ईश्वर