ईरान के माध्यम से सस्ते अफगान मेथामफेटामाइन की अंतरराष्ट्रीय बाजारों में बढ़ सकती है तस्करी

 ईरान के माध्यम से सस्ते अफगान मेथामफेटामाइन की अंतरराष्ट्रीय बाजारों में बढ़ सकती है तस्करी
cheap-afghan-methamphetamine-may-be-smuggled-into-international-markets-through-iran

नई दिल्ली, 1 अक्टूबर (आईएएनएस)। यूरोप को अफगानिस्तान से आने वाली संभावित मेथामफेटामाइन (ड्रग्स) की खेप को लेकर बेहतर तरीके से तैयार रहना चाहिए। इस बारे में यूरोपीय संघ की ड्रग एजेंसी, यूरोपियन मॉनिटरिंग सेंटर फॉर ड्रग्स एंड ड्रग एडिक्शन (ईएमसीडीडीए) की एक रिपोर्ट में चेताया गया है। साक्ष्य बताते हैं कि कम लागत वाली मेथामफेटामाइन की बड़ी मात्रा अफगानिस्तान में विशेष सुविधाओं में अधिक कुशल ऑपरेटरों द्वारा निर्मित की जाती है, जिन्हें कुक के रूप में जाना जाता है। रिपोर्ट में कहा गया है, अफगानिस्तान में इफेड्रिन और मेथामफेटामाइन उत्पादन की पूरी सीमा अज्ञात बनी हुई है, लेकिन यह काफी मात्रा में हो सकती है। ईएमसीडीडीए अनुसंधान ईरान में उपभोक्ता बाजारों में बहुत कम खुदरा कीमतों पर सस्ते अफगान मेथामफेटामाइन (मेथ) की उपलब्धता की ओर इशारा करता है। जब्ती के आंकड़ों से पता चलता है कि अफगान इफेड्रिन और मेथामफेटामाइन (कभी-कभी तरल रूप में) को ईरान में संभावित रूप से पुन: संसाधित किया जा रहा है, जिससे चिंता बढ़ रही है कि इसके फैलने की संभावना भी बढ़ सकती है। हालांकि क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में अफगान-मूल मेथामफेटामाइन की उपलब्धता का अनुमान लगाना मुश्किल है, मगर कानून प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा रासायनिक प्रोफाइलिंग से पता चलता है कि यह उपभोक्ता बाजारों में पूर्वी अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के रूप में दूर तक उपलब्ध हो सकती है। यूरोप के भीतर उत्पादन (ज्यादातर नीदरलैंड और चेक गणराज्य में स्थित) यूरोपीय उपभोक्ताओं के बीच मौजूदा मांग को पूरा करने के लिए पर्याप्त से अधिक प्रतीत होता है। लेकिन अफगानिस्तान में तुलनात्मक रूप से सस्ते और शुद्ध मेथामफेटामाइन का उत्पादन एक महत्वपूर्ण खतरा बना हुआ है, क्योंकि यह ड्रग्स अफगान हेरोइन (विशेषकर ईरान और तुर्की के माध्यम से बाल्कन मार्ग) की तस्करी के लिए सुस्थापित तस्करी मार्गों के माध्यम से यूरोपीय बाजार में प्रवेश कर सकती है। अफगान मूल की मेथामफेटामाइन को अन्य उपभोक्ता बाजारों (जैसे पूर्वी और दक्षिणी अफ्रीका, दक्षिण-पूर्व एशिया और ओशिनिया में) के लिए अपना रास्ता बनाते हुए देखा भी जा सकता है। ईरान के पास पड़ोसी अफगानिस्तान की तुलना में मेथामफेटामाइन उत्पादन का लंबा इतिहास है, लेकिन ऐसे संकेत हैं कि यह एक उत्पादक से एक पारगमन राष्ट्र में स्थानांतरित हो रहा है। 2010 के बाद से, ईरान में मेथामफेटामाइन उत्पादकों को बढ़ते आर्थिक, नियामक और कानून-प्रवर्तन दबावों का सामना करना पड़ा है, जिनका घरेलू उत्पादन सीमित है और जिसके कारण अफगानिस्तान से सस्ते आयात पर निर्भरता बढ़ रही है। रिपोर्ट में कहा गया है कि ईरानी अधिकारियों ने घरेलू उत्पादन को जोखिम भरा और कम लाभदायक बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। यूरोपीय संघ में मेथामफेटामाइन की बरामदगी पिछले 10 वर्षों में बढ़ी है, हालांकि दुनिया में कहीं और देखे गए स्तरों तक यह नहीं है। यूरोप में मेथामफेटामाइन का मौजूदा बाजार अन्य उत्तेजक (जैसे कोकीन और एमडीएमए) की तुलना में बहुत छोटा है, जिसका उपभोग विशिष्ट देशों, क्षेत्रों या उपयोगकर्ता समूहों तक सीमित है। रिपोर्ट में कहा गया है, फिर भी, चिंताएं हैं कि ड्रग्स में रुचि बढ़ रही है और इसमें यूरोप की भविष्य की ड्रग्स की समस्या में बड़ी भूमिका निभाने की क्षमता हो सकती है। हाल के वर्षों में अफगानिस्तान में मेथामफेटामाइन उद्योग का विस्तार अफगान ड्रग्स व्यापारियों द्वारा इस अहसास का अनुसरण करता है कि एफेड्रा के पौधे (देश के मध्य हाइलैंड्स में सदियों से बढ़ते हुए) एफेड्रिन का एक प्राकृतिक स्रोत हैं, जो मेथमफेटामाइन बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक प्रमुख रसायन है। रिपोर्ट बताती है कि देश में 2013 और 2017 के बीच मेथामफेटामाइन का उत्पादन पहले से ही हो रहा था, लेकिन विशेष रसायनज्ञों की आवश्यकता वाली महंगी प्रक्रिया में आयातित ड्रग्स (जैसे कफ सिरप) से निकाले गए इफेड्रिन पर आधारित है। 2017 से बड़े पैमाने पर इफेड्रा-आधारित मेथामफेटामाइन उत्पादन में देश के कदम अपेक्षाकृत तेजी से आगे बढ़े हैं, जिसके परिणामस्वरूप अपेक्षाकृत कम कुशल श्रमिकों द्वारा सूखे इफेड्रा फसलों से एफेड्रिन की निकासी के लिए एक संपन्न कुटीर उद्योग बन चुका है। --आईएएनएस एकेके/एएनएम

अन्य खबरें

No stories found.