अंधविश्वास के फेर में काटी ऊंट की गर्दन, गाड़ दी घर के बाहर

अंधविश्वास के फेर में काटी ऊंट की गर्दन, गाड़ दी घर के बाहर
camel39s-neck-was-cut-in-the-face-of-superstition-buried-outside-the-house

उदयपुर, 09 जून (हि.स.)। कुछ दिनों पूर्व उदयपुर शहर में पुलिस लाइन के पास मिले गर्दन कटे ऊंट के धड़ के मामले को बुधवार को पुलिस ने खुलासा कर दिया। एक दूध व्यवसायी ने अंधविश्वास के फेर में ऊंट की गर्दन काटकर घर के बाहर गड्ढे में गाड़ दी थी। सूरजपोल थानाधिकारी हनवंतसिंह ने बताया कि 30 मई को टेकरी पुलिस लाइन क्षेत्र में ऊंट की गर्दन काटकर अज्ञात लोग ले गए और वहां धड़ पड़ा होने की सूचना मिली थी। इस पर अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। मामला राज्य पशु की हत्या तथा शहर के आबादी क्षेत्र से जुड़ा होने के कारण गंभीर बन गया था। उच्चाधिकारियों के निर्देश पर मामले की जांच के लिए विशेष टीम का गठन किया गया। टीम ने टेकरी निवासी शोभालाल और उसके पुत्र चेतन, गोवर्द्धनविलास निवासी राजू उर्फ राजेश तथा इसके साथी रघुवीरसिंह को मामले में गिरफ्तार किया है। शोभालाल सुखाड़िया विश्वविद्याय के कला महाविद्यालय से सेवानिवृत्त चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी है। वह पिछले कुछ समय से टेकरी क्षेत्र में ही चाय का ठेला लगाता रहा है। वहां राजू आता जाता रहता था। राजू डेयरी चलाता है। राजू ने शोभालाल को बताया कि उसकी गाय ने दूध देना कम कर दिया। डेयरी पर दूध भी फट जाता है। गायों को खुरपका बीमारी भी हो गई। वह खुद भी बीमार रहने लगा है और उसे लगता है कि उस पर किसी ने कोई तंत्र क्रिया कर दी है। यह सुनकर शोभालाल ने उसे किसी ऊंट की गर्दन काटकर अपने घर के गेट के बाहर गाड़ देने का टोटका बताया। इस पर राजू सहमत हो गया। इसी दौरान टेकरी क्षेत्र में कुछ समय से विचरण करते एक ऊंट को इन्होंने देखा और मौका पाकर दो अन्य आरोपितों की मदद से ऊंट की गर्दन काट दी। कटी गर्दन राजू के घर के गेट के बाहर गाड़ दी। टीम ने चारों को गिरफ्तार कर उनकी निशानदेही से राजू के घर के बाहर गेट के सामने गड्ढा खोदकर गर्दन निकालकर बरामद कर ली है। हिन्दुस्थान समाचार/सुनीता कौशल/संदीप