सर्राफा व्यापारी आशीष भंडारी के अंधे कत्ल का खुलासा, दो आरोपित गिरफ्तार

सर्राफा व्यापारी आशीष भंडारी के अंधे कत्ल का खुलासा, दो आरोपित गिरफ्तार
blind-murder-of-bullion-trader-ashish-bhandari-exposed-two-accused-arrested

14 माह पूर्व लूट के इरादे से गोली मारकर की गई हत्या राजगढ़, 12 जून (हि.स.)। जिले के नरसिंहगढ़ थाना क्षेत्र में 14 माह पूर्व लूट के इरादे से बाइक सवार दो अज्ञात बदमाशों ने सर्राफा व्यवसाई आशीष भंडारी की गोली मारकर हत्या कर दी थी। पुलिस टीम ने वीडियो फुटेज के आधार पर दो आरोपितों को गिरफ्तार किया, जिन्होंने अन्य 4 साथियों के नाम उजागर किए हैं, सभी आरोपित ग्वालियर, मुरैना जिले के निवासी हैं। पुलिस मामले में आरोपितों से पूछताछ कर रही है और भी वारदातों के खुलासा होने की संभावना जताई गई है। पुलिस अधीक्षक प्रदीप शर्मा ने शनिवार को आयोजित प्रेसवार्ता में खुलासा करते हुए बताया कि 21 मार्च 2020 को रात्रि 8 बजे सर्राफा व्यापारी दुकान मंगल कर भाई लोकेश भंडारी के साथ घर लौट रहे थे। इसी दौरान शिवाजी चैक पर बाइक सवार दो अज्ञात बदमाशों ने ज्वैलरी से भरा बैग लूटने का प्रयास किया, लेकिन वह असफल रहे, जिस पर बदमाशों ने दहशत का माहौल बनाने बंदूक से दो फायर कर दिए, गोली सीधे अशीष भंडारी के सीने में लगी, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। पुलिस ने मृतक के भाई लोकेश भंडारी की रिपोर्ट पर अज्ञात बदमाशों के खिलाफ धारा 302, 398, 25, 27 आम्र्स एक्ट के तहत प्रकरण दर्ज किया। संभाग के वरिष्ठ पुलिस अफसरों के निर्देश पर टीम गठित की गई। पुलिस टीम ने आसपास के सीमावर्ती जिलों, टोलटेक्स और संभावित स्थानों के वीडियो फुटेज खंगाले और अन्य जिलों की वारदातों से मिलान किया गया, जिसमें ज्ञात हुआ कि ग्वालियर, शिवपुरी, भिंड सहित मुरैना में इसी प्रकार से वारदातों को अंजाम दिया गया, जिसके आधार पर पुलिस टीम ने मुखबिर की सूचना पर मनीष शर्मा निवासी गिलापुरा अंबाह, संजय उर्फ संजू बाबा जाटव निवासी रामनगर अंबाह को गिरफ्तार किया, जिन्होंने पूछताछ पर भूरा जाटव निवासी अंबाह, राजेश गुर्जर निवासी रिठौरकला अंबाह, सुभाष गुर्जर और निक्की उर्फ भूपेन्द्र गुर्जर निवासी गोले का मंदिर ग्वालियर के नाम उजागर किए। आरोपितों ने बताया कि पहले स्कार्पियो वाहन से भोपाल की तरफ गए, जहां परवलिया सड़क थाना क्षेत्र में मुगालिया हाट जोड़ से बैरसिया निवासी सुनील कौर से पल्सर बाइक लूटी और बाद में रैकी के आधार पर सर्राफा व्यवसाई से ज्वैलरी से भरा बैग लूटने की योजना बनाई, जिसमें गोली मारकर हत्या की गई। घटना के दौरान शिवाजी चौक पर ठेला लगाने वाले नरेन्द्र खींची ने आरोपितों के उपर चाउमीन से भरी कढ़ाई फैंककर मारी, जिससे वह भाग खड़े हुए। मृतक के परिजनों ने पुलिस टीम को बधाई देते हुए फूलमाला पहनाकर सम्मानित किया। कार्रवाई के दौरान एएसपी मनकामना प्रसाद, एसडीओपी भारतेन्दु शर्मा, थाना प्रभारी रविन्द्र चावरिया, निरीक्षक रामबाबू यादव, कैलाश भारद्वाज, एसआई राकेश दामले, अरविंद राजपूत, रमाकांत उपाध्याय, अरुधंति राजावत, माधवीसिंह तोमर सहित अन्य पुलिसकर्मी मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार/मनोज पाठक