क्राइम

गलत लोगों की संगति में आकर बन गया ठग, गिरफ्तार

news

नई दिल्ली, 07 अप्रैल(हि.स.)। दक्षिण जिले के साइबर सेल ने जालसाज के मामले में एक युवक को गिरफ्तार किया है। आरोपित ने बीएससी तक पढ़ाई की है। पहले वह कपड़े बुनने का काम करता था। पिछले साल लॉकडाउन के वक्त वह गलत लोगों की संगति में आया और धोखाधड़ी करने लगा। आरोपित की पहचान संतोष कुमार (31) के रूप में हुई। वह मूलरुप से भागलपुर बिहार का रहने वाला है। पुलिस ने इसके पास से तीन स्मार्टफोन और एक आईफोन बरामद किया है। डीसीपी अतुल कुमार ठाकुर ने बताया इस मामले को लेकर एक महिला ने चितरंजन पार्क थाने में शिकायत दी थी, जिसमें उसने बताया उसका पीएनबी और यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया में पिता के साथ ज्वाइंट अकाउंट है। तीन माच्र को उसके पिता के पास एक मैसेज आया, जिसमें बैंक अकाउंट केवाईसी अपडेट करने के लिए कहा गया। पिता ने उस नंबर पर कॉल किया, फोन उठाने वाले ने खुद को बैंक एग्जीक्यूटिव बताया। जालसाज ने उनसे केवाईसी अपडेट करने के नाम पर बैंक से सम्बंधित गोपनीय जानकारी ले ली। कुछ देर बाद उन्हें पता चला उनका नेट बैंकिंग का पासवर्ड बदल गया है। वह पीएनबी बैंक गए जहां पूरी बात बतायी। वे बैंक से वापस आ गए जिसके बाद उनके अकाउंट से चार बार में चार लाख की ट्रांजेक्शन हो गई। इस शिकायत पर पुलिस ने धोखाधड़ी सम्बंधी धाराओं के तहत केस दर्ज किया। साइबर सेल इंस्पेक्टर अजीत कुमार की टीम ने जांच शुरु की। मोबाइल नंबर, बैंक अकाउंट और बैंक ट्रांजेक्शन का पता लगाया। इस दरम्यान पुलिस को पता चला आरोपित भागलपुर बिहार और झारखंड से ताल्लुक रखते हैं। इसके बाद पुलिस टीम भागलपुर बिहार गई जहां टैक्नीकल सर्विलांस की मदद से आरोपित की लोकेशन ट्रेस कर उसे दबोच लिया। आरोपित ने पूछताद में अपना गुनाह कबूल लिया। उसने बताया वह लॉकडाउन के समय रामू के संपर्क मं आया, जिससे उसने लोगों को ठगने का तरीका सीखा। इसके बाद उसने लोगों को गुमराह कर ठगना शुरु कर दिया। ठगी की रकम को वह अपने सहयोगी के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर रकम आपस में बांट लेता था। आरोपित ने बीएन कॉलेज भागलपुर से बीएससी कर रखी है। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी