ऑक्सीजन व अस्पतालों में बैड दिलाने के नाम पर ठगी करने वाला आरोपित गिरफ्तार

ऑक्सीजन व अस्पतालों में बैड दिलाने के नाम पर ठगी करने वाला आरोपित गिरफ्तार
accused-arrested-for-cheating-in-the-name-of-getting-oxygen-and-beds-in-hospitals

नई दिल्ली, 07 मई (हि.स.)। कोविड के दौरान ऑक्सीजन व अस्पतालों में बैड की मारामारी है। लोग इसका फायदा उठाकर जरूरतमंद लोगों को खूब बेवकूफ बना रहे हैं। रोहिणी जिला स्पेशल स्टाफ थाना पुलिस ने नामी अस्पतालों में आईसीयू बैड दिलवाने की बात कर ठगी करने वाले एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। आरोपित की पहचान करालेबाग निवासी इमरान अहमद (25) के रूप में हुई है। आरोपी ने अपना मोबाइल नंबर व्हाट्सएप पर वितरित करवा दिया था। इसके बाद जो भी बैड के लिए उससे संपर्क करता था वह उससे रकम की डिमांड करता। रुपये लेने के बाद पीड़ितों का फोन उठाना बंद कर देत था। बीते पांच दिनों के भीतर आरोपित ने 11 लोगों को आईसीयू बैड दिलवाने की बात कर ठगा है। पुलिस ने आरोपित के पास से वारदात में इस्तेमाल मोबाइल फोन, क्रेडिट कार्ड और डेबिट कार्ड बरामद किया है। पुलिस आरोपित से पूछताछ कर मामले की छानबीन कर रही है। रोहिणी जिला पुलिस उपायुक्त ने बताया कि केएन काटजू मार्ग थाना पुलिस को पिछले दिनों अंकित बंसल नामक शख्स ने एक शिकायत दी थी। अपनी शिकायत में अंकित ने बताया कि उसके रिश्तेदार कोविड पॉजिटिव हैं। उसका लगातार ऑक्सीजन लेवल कम हो रहा था। उनको अस्पताल में आईसीयू बैड की जरूरत थी जो मिल नहीं रहा था। इसके बाद उनको तीन मई को व्हाटसएप के जरिये एक नंबर मिला। नंबर पर बातचीत की गई तो आरोपित ने बताया कि वह बैड दिलवा सकता है। आरोपित ने इसके लिए 30 हजार रुपये मांगे। बातचीत के बाद 20 हजार में बातचीत तय हो गई। आरोपित ने एक अकाउंट नंबर दिया और रुपये डालने की बात की। पीड़ितों ने आधी रकम 10 हजार रुपये आरोपित के बैंक खाते में डाल दिए। इसके बाद आरोपित ने पीड़ितों को नजरअंदाज करना शुरू कर दिया। परेशान होकर परिवार ने पांच मई को मामले की शिकायत पुलिस से की। मामले की गंभीरता को देखते हुए जिले के स्पेशल स्टाफ ने मामले की जांच शुरू कर दी। स्पेशल स्टाफ एसआई कमल शर्मा व अन्यों की टीम ने जांच शुरू की। आरोपित के खाता संख्या और सीडीआर से डिटेल खंगाली गई। छानबीन के बाद आरोपित को गुरूवार उसके घर के पास करोल बाग से दबोच लिया गया। पूछताछ के दौरान आरोपित ने बताया कि उसने 24 अप्रैल को व्हाट्सएप पर अपना नंबर डाला था। इसके बाद वह एक मई से पांच मई के बीच 11 लोगों से 1.30 लाख रुपये ठग चुका है। आरोपित ने बताया कि कोविड के दौरान लोग अस्पताल में बैड के लिए परेशान हैं। ऐसे में उसने ठगी की योजना बनाई और बैड दिलवाने के नाम पर ठगी करने लगा। पुलिस आरोपित से पूछताछ कर मामले की छानबीन कर रही है। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी