क्राइम

लकी ड्रा में महंगे गिफ्ट निकलने का झांसा देकर ठगी करने वाले दो शातिर बदमाश गिरफ्तार

news

नई दिल्ली, 10 सितम्बर (हि.स.)। लकी ड्रा में महंगे गिफ्ट निकलने का झांसा देकर ठगी करने वाले दो शातिर बदमाशों को मध्य जिला पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपियों की पहचान गैंग सरगना सन्नी गोयल (28) और सज्जन कुमार (34) के रूप में हुई है। दोनों आरोपी कॉल कर लकी ड्रा में महंगा मोबाइल या अन्य सामान निकलने का झांसा देते थे। पीड़ित का भरोसा जीतने के लिए पोस्टऑफिस जाकर तीन से चार हजार रुपये में पार्सल छुड़ाने की जाती थी। इतने रुपयों में महंगा सामान मिलने पर ज्यादातर लोग इसके लिए तैयार हो जाते थे। पुलिस की मानें तो आरोपियों ने देशभर के 800 से अधिक लोगों को अभी तक चूना लगाया है। पुलिस ने इनके पास से एक कंप्यूटर, नौ मोबाइल, पांच पार्सल, 10 खाली डिब्बेे और बैंक की चेकबुक व पासबुक बरामद की है। गैंग सरगना सन्नी डीयू से ग्रेजुएट है। पुलिस पकड़े गए आरोपियों से पूछताछ कर मामले की छानबीन कर रही है। मध्य जिला पुलिस उपायुक्त संजय भाटिया ने बताया कि छह अगस्त को रमेश पांडेय नामक शख्स ने पटेल नगर थाने में ठगी की शिकायत दी थी। रमेश ने बताया कि उनके पास एक अज्ञात शख्स का कॉल आया। कॉलर ने बताया कि उनका नंबर लकी ड्रा में सलेक्ट हुआ है। ड्रा में उनका 25 हजार रुपये कीमत का मोबाइल निकला है। लेकिन मोबाइल चुकाने के लिए उन्हें 3995 रुपये चुकाने होंगे। गिफ्ट को पार्सल के जरिये नजदीकी पोस्टऑफिस में स्पीड पोस्ट से भेजा जाएगा। रुपये भी पोस्टऑफिस में देना होंगे। रमेश इनकी बातों में आ गया। कुछ दिनों बाद रमेश का पार्सल पोस्ट ऑफिस आ गया। वहां उसने रुपये देकर पार्सल छुड़ाया तो उसमें पतांजलि की गिलोय निकली। इसके बाद उसे ठगी का पता चला। पुलिस ने मामला दर्ज छानबीन शुरू की। पुलिस ने टेक्नीकल सर्विलांस से पड़ताल की तो पता चला कि ठगों का नंबर रोहिणी सेक्टर-7 में चल रहा है। पुलिस ने छापेमारी कर पहले सज्जन को रोहिणी और बाद में सन्नी को उत्तम नगर से दबोच लिया। ऐसे देते थे वारदात को अंजाम पूछताछ के दौरान सन्नी ने बताया कि उसने पढ़ाई के बाद ठगी का धंधा शुरू कर दिया। उसने प्राइम डील के नाम से एक फर्जी कंपनी बनाई। आरोपी देशभर के लोगों मोबाइल नंबर और पता गूगल की मदद से निकलकर उनको लकी ड्रा में महंगा सामान निकलने का झांसा देते थे। पोस्ट ऑफिस में तीन-चार हजार रुपये चुकाकर पार्सल लेने की बात की जाती थी। पार्सल में महंगे सामान की जगह गिलोय, पर्स या बांधने वाली बेल्ट रख दी जाती थी। आरोपियों ने आठ सौ से अधिक लोगों के साथ इसकी तरह धोखाधड़ी की बात कबूली है। हिन्दुस्थान समाचार/अश्वनी-hindusthansamachar.in