राजधानी में अलग-अलग क्षेत्रों में तीन लोगों ने फांसी लगाकर दी जान
राजधानी में अलग-अलग क्षेत्रों में तीन लोगों ने फांसी लगाकर दी जान
क्राइम

राजधानी में अलग-अलग क्षेत्रों में तीन लोगों ने फांसी लगाकर दी जान

news

लखनऊ,07 सितम्बर (हि.स.)। प्रदेश की राजधानी लखनऊ में अलग-अलग थाना क्षेत्र में युवक समेत तीन लोगों ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली है। पारा थाना क्षेत्र स्थित बुद्धेश्वर बिहार निवासी शिक्षक नवनीत प्रकाश की पत्नी दिव्या (24) ने सोमवार की शाम को फांसी लगा ली। मृतक दिव्या के पिता नरेंद्र कुमार ने आरोप लगाया कि दिव्या की शादी के बाद से नवनीत दहेज को लेकर प्रताड़ित करते था और उसे मायके भी नहीं भेजता था। मृतका के पिता ने दमाद के खिलाफ तहरीर दी है। वहीं चौकी प्रभारी विनय सिंह का कहना है कि नवनीत और दिव्या की शादी अप्रैल 2019 में हुई थी। दम्पति के छह माह की बेटी है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है, रिपोर्ट और तहरीर के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। इन्दिरानगर थाना क्षेत्र में रहने वाला मिठाई लाल पाल ने बताया कि उनकी बेटी ममता (32) ने सुसाइड नोट लिखकर खुदकुशी कर ली है। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर घर की तलाशी ली। सुसाइड नोट में मरने से पहले महिला ने लिखा कि मुंशी पुलिया के पास प्रापर्टी डीलर नीलेश गुप्ता व कृष्णा यादव के वर्ष 2015-2016 में काम किया था। इसी बीच कई विभागों में सफाई कर्मचारी की भर्ती निकली। इसमें नीलेश व कृष्णा की बातों में उसने कई रिश्तेदारों से नौकरी लगवाने के नाम पर 25 लाख रुपये लेकर उन दोनों को दे दिए। इसके बाद उन दोनों ने शहर में पानी सप्लाई का ठेका लगाने के नाम पर ममता के कहने पर उसके उसके भाई देवेंद्र व बहनोई दीपचंद्र ने भी 65 लाख रुपये दे दिए। पानी सप्लाई का ठेका और रिश्तेदारों को नौकरी न मिलने पर लोगों ने ममता से पैसों का तकाजा शुरु कर दिया। इस पर ममता ने नीलेश और कृष्णा से से पैसों के लिए कहा तो उन लोगों ने उसे मारने की धमकी दी। इससे आहत होकर ममता ने सुसाइड नोट में लेनदेन का जिक्र करते हुए खुकदकुशी कर ली। प्रभारी निरीक्षक ब्रजेश कुमार सिंह ने बताया कि पिता की तहरीर पर आरोपित कृष्णा व नीलेश के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरु कर दी। तनाव के कारण दे दी जान बंथरा भटगांव निवासी प्रेम नारायण के बेटे गौरव (20) ने सोमवार को गांव के बाहर आम के बाग में फांसी लगा ली। पिता का कहना है कि दाल फैक्ट्री में काम करने वाला गौरव पिछले काफी समय से तनाव में चल रहा था। इसी के चलते उसने यह कदम उठाया है। हिन्दुस्थान समाचार/दीपक-hindusthansamachar.in