महेश्वर जल विद्युत परियोजना में करोड़ों का एल्युमिनियमका चोरी, अब तक नहीं लगा सुराग
क्राइम

महेश्वर जल विद्युत परियोजना में करोड़ों का एल्युमिनियमका चोरी, अब तक नहीं लगा सुराग

news

खरगोन, 22 सितम्बर (हि.स.)। लॉक डाउन के दौरान महेश्वर जल विद्युत परियोजना के गोदाम से करोड़ो रूपए का एल्युमिनिय और ताबा सहित अन्य माल चोरी हो गया था । जिसका अभी तक पुलिस सुराग नहीं लगा पाई है, हालांकि इस संबंध में परियोजना प्रबंधन ने मार्च एवं अप्रैल में तत्कालीन मण्डलेश्वर पुलिस थाना प्रभारी को परियोजना के गोदाम से चोरी होने की लिखित शिकायत भी दर्ज कराई पर तत्कालीन थाना प्रभारी ने शिकायतों पर कोई ध्यान नही दिया। बताया जा जा रहा है कि लॉक डाउन के पूर्व कॉम्पेक्ट इंटरनेशनल सिक्योरिटी एजेंसी, जो महेश्वर जल विद्युत परियोजना की अधिकृत सिक्योरिटी एजेंसी थी, का करार परियोजना प्रबंधन द्वारा खत्म कर दिया गया जिससे परियोजना की सुरक्षा पूर्ण रूप से खत्म हो गयी जिसके चलते लॉक डाउन के दौरान चोरों की चांदी हो गयी। दो दिन पूर्व पुलिस अधीक्षक खरगोन शैलेन्द्र सिंह चौहान को मिली शिकायत पर एसडीओपी मान सिंह ठाकुर ने इन चोरियों की जांच शुरू की। क्या है पूरा मामला: लॉक डाउन के दौरान परियोजना के गोदाम से करोड़ो की कीमत के एल्युमिनियम एवं तांबे के तार सहित अन्य सामान गोदाम से ही गाड़ी में भर कर चोरी किये गए थे। उस समय पुलिस ने दो चोरों को शक के आधार पर पकड़ा था पर बिना किसी खास पूछताछ के दोनो चोरों को पुलिस ने छोड़ दिया। दो दिन पूर्व इस बात की जानकारी कही से पुलिस अधीक्षक को मिली। जिसके चलते उन्होंने एसडीओपी से रिपोर्ट मांगी। एसडीओपी मान सिंह ठाकुर ने बताया कि उक्त मामले की जांच की जा रही है। तथ्य एवं साक्ष्य खंगाले जा रहे है। योजना बना कर की गई श्रंखलाबद्ध चोरियां: परियोजना से सम्बंधित कर्मचारी राजेश सिटोले एवं शारदे ने बताया कि लॉक डाउन में गोदाम के साथ साथ सम्पूर्ण परियोजना परिसर में सिक्योरिटी नही थी जिसके चलते चोरों ने कई चरणों मे गोदाम में रखे करोड़ो की कीमत के एल्युमिनियम एवं तांबे के तार, लोहे की भारी भरकम प्लेट सहित कई बहुमूल्य समान चोरी किया। कई बार हमने ही अपनी गश्त में चोरों को सामान ले जाते देखा। हमे दूर से देख कर चोर सामान वही छोड़ कर भागे। इस संबंध में थाना प्रभारी भारत सिंह रावत का कहना है कि मामला अभी मेरे संज्ञान में आया है। मैंने व्यक्तिगत तौर पर परियोजना के गोदाम का मौका मुआयना भी किया है। वर्तमान में गोदाम की सुरक्षा में लगे कर्मचारियों से चोरी सम्बन्धी पूछताछ भी की है। जल्द ही टीम का गठन कर आगामी कार्यवाही की जाएगी। परियोजना प्रबंधन की शिकायतों पर कार्यवाही जरूर होगी। हिन्दुस्थान समाचार/चन्द्रशेखर कर्मा/ देवेन्द्र/राजूू-hindusthansamachar.in