बैतूल: एडीजे हत्याकाण्ड के आरोपित चार अगस्त तक पुलिस रिमांड पर
क्राइम

बैतूल: एडीजे हत्याकाण्ड के आरोपित चार अगस्त तक पुलिस रिमांड पर

news

बैतूल, 31 जुलाई (हि.स.)। जिला न्यायालय में पदस्थ रहे एडीजे महेंद्र त्रिपाठी की षडयंत्र रचकर हत्या करने वाले आरोपितों को न्यायालय ने आगामी 04 अगस्त तक पुलिस अभिरक्षा में सौंप दिया है। मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट बैतूल ने एडीजे त्रिपाठी की हत्या में शामिल आरोपितों संध्या (48) पत्नी संतोष सिंह, देवीलाल (50) पुत्र सेवाराम चंद्रवंशी, संजू (23) पुत्र बडड़ु चन्द्रवंशी, कमल (35) पुत्र गरीबा आम्रवंशी, मुबीन (33) पुत्र सलीम खान एवं रामदयाल (60) पुत्र संतुलाल चन्द्रपुरिया को पूछताछ एवं अग्रिम अनुसंधान के लिए पुलिस थाना गंज की अभिरक्षा में सुपुर्द कर दिया है। एसडीओपी विजय पुंज ने शुक्रवार को मामले की जानकारी देते हुए बताया कि एडीजे महेन्द्र त्रिपाठी की हत्या के मामले में पुलिस थाना गंज में इन अपराधियों के खिलाफ अपराध क्रमांक 391/20 अपराध अंतर्गत धारा 302, 328, 307 एव 120 बी भादवी के तहत प्रकरण दर्ज किया गया है। सभी को गिरफ्तार कर गुरुवार को न्यायालय में पेश किया गया था। मामले में पुलिस की ओर से डीपीओ एमआर खान एवं वरिष्ठ एडीपीओ अमित राय ने न्यायालय में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से उपस्थित होकर पुलिस अभिरक्षा प्राप्त करने के लिए तर्क प्रस्तुत किये, जिनसे सहमत होते हुए न्यायालय ने आरोपितों को पुलिस अभिरक्षा में सौंपा। एसडीओपी पुंज ने बताया कि मामले में वकील पीयूष शर्मा के मृतक एडीजे महेन्द्र त्रिपाठी से काफी घनिष्ठ व पारिवारिक संबंध रहे हैं। एडीजे महेन्द्र त्रिपाठी अपनी हर छोटी-बड़ी बातों की जानकारी उन्हें देते थे। एडीजे त्रिपाठी की मृत्यु के पूर्व भी 22 जुलाई को उनकी पीयूष शर्मा से बात हुई थी, जिसमें एडीजे ने आरोपित संध्या के बारे में एवं जहर देने के संबंध में बताया था। बातचीत शर्मा के मोबाइल में रिकार्ड हुई है, जो पुलिस को दी गई है। पुलिस द्वारा रिकार्डिंग सुनकर आरोपित संध्या सिंह के संबंध में एवं अन्य जानकारी उपलब्ध कराने के संबंध में लगातार अनुसंधान टीम पूछताछ कर रही है। वकील पीयूष शर्मा से पूछताछ में जो तथ्य निकलकर आयेगा, उसके आधार पर पुलिस अनुसंधान में आगे कार्यवाही करेगी। हिन्दुस्थान समाचार / विवेक / मुकेश-hindusthansamachar.in