बाइक सवार बदमाशों ने मारपीट कर सिपाही को मारी गोली
बाइक सवार बदमाशों ने मारपीट कर सिपाही को मारी गोली
क्राइम

बाइक सवार बदमाशों ने मारपीट कर सिपाही को मारी गोली

news

बागपत, 07 सितम्बर (हि.स.)। जिले के सिंघावली अहीर थाना क्षेत्र के पिलाना-बंथला मार्ग पर ग्राम रोशनगढ़ के गेट के निकट दो बाइकों सवार बदमाशों ने सोमवार की देर शाम को मारपीट कर दिल्ली ट्रैफिक पुलिस के सिपाही को गोली मार दी। वह गंभीर रूप से घायल हो गया। आशंका है कि लूट के विरोध पर बदमाशों ने गोली मारी है। करीब एक घंटे तक थाना बालैनी व सिंघावली अहीर की पुलिस सीमा विवाद में उलझी रही। मेरठ के जानी थाना क्षेत्र के ग्राम डालूहेड़ा निवासी 35 वर्षीय मनीष पुत्र कृष्णपाल, दिल्ली ट्रैफिक पुलिस में कांस्टेबल के पद पर तैनात है। वह सोमवार शाम करीब चार बजे दिल्ली से बाइक पर सवार होकर घर लौट रहा था। ग्राम रोशनगढ़ के गेट के निकट पहुंचने पर बुलेट व अपाची बाइक सवार चार बदमाशों ने मारपीट करते हुए कांस्टेबल मनीष को पिस्टल से गोली मार दी। वह गंभीर रूप से घायल हो गया। गोली की आवाज सुनकर खेतों में काम कर रहे किसान एकत्र हो गए लेकिन उनके घटनास्थल पर पहुंचने से पहले ही बदमाश फरार हो गए। उन्होंने घटना की पुलिस को सूचना दी। काफी देर तक पुलिस नहीं पहुंची तो ई-रिक्शा से घायल सिपाही को पिलाना सीएचसी ले जाया गया। डॉक्टरों ने हालत गंभीर देखे हुए प्राथमिक उपचार कर उसको हायर हॉस्पिटल के लिए रेफर कर दिया। जानकारी मिलने पर सिपाही के स्वजन उसे हॉस्पिटल से लेकर मेरठ चले गए। आशंका है कि लूट के विरोध पर सिपाही को गोली मारी गई है। कार्यवाहक एसपी मनीष कुमार मिश्र, बागपत सीओ ओमपाल सिंह व खेकड़ा सीओ एमएस रावत ने मौके पर पहुंचकर जांच पड़ताल की। उधर सीओ ओमपाल सिंह का कहना है कि बाइक सवार युवकों ने सिपाही से पहले मारपीट की, फिर गोली मारी। मामले की जांच के बाद ही घटना के कारण का पता स्पष्ट होगा। घटना के बाद बालैनी व सिंघावली अहीर पुलिस पहुंच गई थीं लेकिन वे सीमा विवाद में उलझ गईं। दोनों थानों की पुलिस एक-दूसरे के क्षेत्र में घटना होने का दावा करने लगी। यदि पुलिस सीमा विवाद में न उलझकर बदमाशों की तलाश में लगती तो शायद बदमाश पकड़े जाते। अफसरों ने मौके पर पहुंचकर तय किया कि यह घटना सिंघावली अहीर थाने में दर्ज होगी। उधर पीड़ित कृष्णपाल सिंह ने बताया कि उनका बेटा मनीष वर्ष 2011 में भर्ती हुआ था। जो पीएमओ दफ्तर समेत विभिन्न थानों में तैनात रह चुका है। मनीष की यातायात पुलिस की रविवार को ही ट्रैफिंग पूरी हुई थी। यातायात पुलिस मुख्यालय से ड्यूटी स्थल की जानकारी प्राप्त करके घर लौट रहा था। उनकी किसी से कोई रंजिश नहीं है। हिन्दुस्थान समाचार/ गौरव साहनी/ रामानुज-hindusthansamachar.in