फर्जी जज व उसकी पत्नी को पुलिस ने जेल भेजा
क्राइम

फर्जी जज व उसकी पत्नी को पुलिस ने जेल भेजा

news

फर्रुखाबाद,30 जुलाई (हि.स.)। उच्च न्यायालय लख़नऊ जस्टिस के नाम पर आलाधिकारियों, पुलिस अफसरों को दबाव बनाकर ब्लैकमेल करने वाले शातिर कुख्यात जालसाज प्रदीप चौहान और उसकी पत्नी पूजा को थाना राजेपुर पुलिस ने गुरुवार को सुसंगत धाराओं में जेल भेज दिया। पुलिस को जालसाज से उच्च न्यायालय व सीजेएम न्यायालय की फर्जी मोहरें भी बरामद हुईं। षड्यंत्र में साथ देने की आरोपी पत्नी भी जेल चली गई। बीते दिन उप जिलाधिकारी अमृतपुर बिजेन्द्र सिंह के निर्देश पर एसओजी व थाना पुलिस ने इस कुख्यात जालसाज का भाण्डाफोड़ करते हुए उसे व उसकी पत्नी को आवास-विकास स्थित आवास से धर दबोचा था। शातिर एसडीएम पर पिछले एक माह से जस्टिस चैहान लखनऊ के रूप में फोन कर दबाव बनाकर पट्टे की जमीन अपने पिता के नाम कराना चाहता था। शक होने पर एसडीएम ने इस शातिर के फोन को टेप कराया तो पता चला कि यह दबंग कहीं और का नहीं आवास-विकास में रह रहा है। और थाना क्षेत्र के गांव बदनपुर का निवासी है। स्वाट टीम प्रभारी दिनेश गौतम ने जब एसडीएम व थाना प्रभारी निरीक्षक जयंती प्रसाद गंगवार के साथ इसे धर दबोचा तो परतें खुलती देर न लगी। शातिर ने कबूला कि वह जस्टिस के नाम की सिम का प्रयोग कर अधिकारियों को दबाव में लेता था। पुलिस ने जब इस शातिर से सख्ती से पूछताछ की तो सच उगलते उसने देर न लगाई। पुलिस ने छापेमारी के दौरान उसकी ओमिनी कार की जामा तलाशी ली जिसमें 315 बोर का एक तमंचा और कारतूसों के अलावा उच्च न्यायालय लखनऊ के न्यायिक मजिस्ट्रेट और फर्रुखाबाद के मुख्य दण्डाधिकारी की मोहरें व दो मोबाइल, एक लेटर पैड और आईडी के साथ-साथ लाल बत्ती के उपकरण भी बरामद हुए। पुलिस ने कुख्यात जालसाज और शातिर दिमाग प्रदीप चैहान के खिलाफ सुसंगत धाराओं में मुकदमा पंजीकृत करने के बाद विवेचना शुरू की है। आरोपी चैहान व उसकी पत्नी पूजा को आज जेल भेज दिया गया। मामले की विवेचना प्रभारी निरीक्षक जयंती प्रसाद गंगवार खुद कर रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/चन्द्रपाल/मोहित-hindusthansamachar.in