फर्जी आधार कार्ड के सहारे करोड़ों की सम्पत्ति हड़पने की मंशा विफल, दो गिरफ्तार
फर्जी आधार कार्ड के सहारे करोड़ों की सम्पत्ति हड़पने की मंशा विफल, दो गिरफ्तार
क्राइम

फर्जी आधार कार्ड के सहारे करोड़ों की सम्पत्ति हड़पने की मंशा विफल, दो गिरफ्तार

news

पुलिस ने जालसाजों को दबोचा अम्बेडकर नगर, 12 सितम्बर (हि.स.)। फर्जी आधार कार्ड बनवाकर करोड़ों रूपये की जमीन हड़पने का प्रयास करने वाले दो लोगों को अहिरौली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार दोनों आरोपियों को जेल भेज दिया गया है। मामला अहिरौली थानान्तर्गत फत्तेपुर बेलाबाग गांव से सम्बन्धित है। गांव के ही रहने वाले शिव प्रसाद अग्रहरि का पुत्र छट्ठू उर्फ संतोष 26-27 साल से लापता है। छट्ठू उर्फ संतोष के नाम लगभग साढ़े छः बीघा जमीन है जिसकी कीमत करोड़ों में बताई जा रही है। इस जमीन की बिक्री करने के लिए ग्राहकों की तलाश भी शुरू कर दी गई थी। यही जमीन शिवशंकर की आंख में चुभने लगी और उसने एक सुनियोजित साजिश रच डाली। पड़ोसी जिले अयोध्या के गोशाईंगंज थानान्तर्गत ग्राम भटपुरवा के मजरे त्रिलोकपुर निवासी शिवशंकर शर्मा पुत्र इन्द्रजीत नई दिल्ली में अजमेरी गेट पर शिवम ट्रेडिंग के नाम से वाटर सीलिंग के नाम से दुकान चलाता है। उसकी दुकान पर तुलसी राम पुत्र शंकरलाल निवासी सिकन्दरा थाना बयाना जिला भरतपुर राजस्थान तीन-चार साल से काम करता है। शिव शंकर ने तुलसीराम को ही छट्ठू अग्रहरि उर्फ संतोष कुमार बनाकर आधार कार्ड बनवा दिया तथा उस पर अपना मोबाइल नम्बर दर्ज करा दिया। यह आधार कार्ड जब स्थानीय डाकघर में पंहुचा तो छट्ठू के रहस्यमय परिस्थितियों में वापस आने की चर्चा तेज हो गई। उस पर दर्ज मोबाइल नम्बर पर जब सम्पर्क किया गया तो वह शिवशंकर का निकला जिसके बाद शक की सूई शिवशंकर के इर्द-गिर्द घूमने लगी। इसके बाद छट्ठू के चचेरे भाई राम आशीष ने इसकी शिकायत अहिरौली पुलिस से की, जिस पर पुलिस ने कथित छट्ठू उर्फ तुलसीराम एवं शिव शंकर शर्मा को गिरफ्तार कर लिया। हिन्दुस्थान समाचार/मनीष/दीपक-hindusthansamachar.in