नशा मुक्ति केंद्र के कर्मचारी ही निकले प्रवीण के कातिल
नशा मुक्ति केंद्र के कर्मचारी ही निकले प्रवीण के कातिल
क्राइम

नशा मुक्ति केंद्र के कर्मचारी ही निकले प्रवीण के कातिल

news

हल्द्वानी, 05 नवम्बर (हि.स.)। पिथौरागढ़ निवासी प्रवीण की नशा मुक्ति केंद्र में बुरी तरह पीट कर हत्या की गई थी जिसका खुलासा पुलिस ने अपनी छानबीन में किया है। हत्या के आरोप में पुलिस ने 6 आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। आज उन सभी को न्यायालय के समक्ष पेशकर जेल भेज दिया गया। नशा मुक्ति केंद्र में हुई मृतक प्रवीण टम्टा की हत्या के मामले में पिता जगदीश टमटा ने पुलिस को तहरीर सौंपी थी जिस पर पुलिस ने मामले की छानबीन कर गुरुवार को मामले का खुलासा कर दिया है। एसपी सिटी अमित श्रीवास्तव ने बताया कहा कि रविवार को सफाई के दौरान मरीज की आपस में कहासुनी हो गई थी। नशा मुक्ति केंद्र के पदाधिकारियों के अलावा कर्मचारियों से प्रवीण की मौत के मामले में पूछताछ की। कर्मचारियों ने एक दूसरे पर मारपीट करने का आरोप लगाया। उसके बाद मामला इतना बड़ा की मारपीट की शुरू हो गई। इसी मारपीट में प्रवीण की मौत हो गई। मृतक के परिवार की शिकायत पर पुलिस ने 6 आरोपितों को गिरफ्तार किया। जिनमें कर्मचारी पियूष कौशिक रेलवे कॉलोनी मुरादाबाद, अभिषेक चंद्रा निवासी दमुवाढूंगा, अभय उत्फ बिट्टू निवासी लालकुआं, भर्ती मरीज अर्जुन रावत निवासी काठगोदाम, बॉबी अंसारी काठगोदाम को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस के अनुसार नशा मुक्ति केंद्र रविवार को मरीजों को अलग-अलग टास्क दिए जाते हैं जिनमें बीते रविवार सफाई अभियान चलाया गया था। पुलिस ने बताया प्रवीण ने सफाई करने से मना कर दिया था। जिसे लेकर केंद्र में भर्ती नाबालिग मरीज से विवाद हो गया। विवाद में केंद्र के कर्मचारी व अन्य भी आ गए और मारपीट अधिक बढ़ जाने से प्रवीण की हालात बिगड़ गई जिसके बाद उसे सेंट्रल हॉस्पिटल ले जाया गया। जहां चिकत्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। बता दें कि पिथौरागढ़ निवासी प्रवीण को नशे की लत छुड़ाने के लिए 22 अक्टूबर को हल्द्वानी के कमलुवागांजा स्थित आदर्श जीवन नशा मुक्ति केंद्र में भर्ती कराया गया था। जहाँ उसकी 12 दिन बाद सफाई के दौरान हुई मारपीट में हत्या हो गई। नशा मुक्ति केंद्र के कर्मचारियों ने इस सूचना पुलिस को ना देकर मृतक के शव को चुपचाप उसके निवास स्थान भेज दिया। मृतक प्रवीण के परिजनों ने उसकी पीठ व हाथ पर मारपीट के निशान देखे तो हत्या की आशंका जताई और सूचना पुलिस को दी जिसके बाद पिथौरागढ़ पुलिस की सूचना पर हल्द्वानी मुखानी क्षेत्र की पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी। गुरुवार को उक्त मामले का खुलासा करते हुए आरोपितों को गिरफ्तार कर उन्हें कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया गया। हिन्दुस्थान समाचार/अनुपम गुप्ता-hindusthansamachar.in