नक्सलियों के पास है अत्याधुनिक संचार व्यवस्था
क्राइम

नक्सलियों के पास है अत्याधुनिक संचार व्यवस्था

news

पंकज कुमार गया, 22 नवम्बर (हि.स.)। प्रतिबंधित नक्सली संगठन भाकपा (माओवादी) के पास पुलिस और अर्धसैनिक बल से सचेत करने और निपटने के लिए अत्याधुनिक संचार व्यवस्था है। बिहार के नक्सल इतिहास में पहली बार वायरलेस स्कैनर की बरामदगी से इस बात का खुलासा हुआ है। एसएसपी राजीव मिश्रा ने रविवार को बताया कि मुठभेड़ स्थल से पुलिस ने वायरलेस स्कैनर बरामद किया है।बरामद वायरलेस स्कैनर के माध्यम से नक्सली पुलिस और अर्धसैनिक बल के सभी फ्रिकवेंसी पर होने वाली बातचीत और संदेश को रिसीव करने में सफल रहते हैं। एसएसपी राजीव मिश्रा ने बताया कि झारखंड के सीमावर्ती इलाकों में चार नक्सली कमांडरों के पास वायरलेस स्कैनर होने की सूचना है। इनमें एक जोनल कमांडर आलोक यादव भी था। अपर महानिदेशक, अभियान सुशील एम खोपडे ने पूछे जाने पर बताया कि बिहार के नक्सल इतिहास में पहली बार वायरलेस स्कैनर की बरामदगी हुई है। खोपडे के अनुसार दो महीने पूर्व एक वरिष्ठ नक्सल कमांडर ने गया में पुलिस और सीआरपीएफ के समक्ष आत्मसमर्पण किया था। उस नक्सली कमांडर ने पुलिस को बताया था कि अब नक्सली संगठन के शीर्षस्थ नेताओं के पास वायरलेस स्कैनर है जिससे वह पुलिस और अर्धसैनिक बल के संदेश को सुनने में सक्षम है। वायरलेस स्कैनर सभी फ्रिकेवेंसी को रिसीव करने में सक्षम है। खोपडे के अनुसार वायरलेस स्कैनर रहने से नक्सली संगठन के शीर्षस्थ नेताओं को पुलिस और अर्धसैनिक बल के हर मूवमेंट की सूचना मिल जाती है जिससे वे फरार होने में सफल हो जाते हैंं।उन्होंने कहा कि कोबरा बटालियन की एक टुकड़ी घटनास्थल यानी सांस्कृतिक कार्यक्रम स्थल पर मौजूद थी। इस बात की भनक संभवतः नक्सली कमांडर आलोक और उसके हथियार बंद दस्ते को नहीं रही होगी। इसीलिए कोबरा की जबावी कारवाई में जोनल कमांडर आलोक यादव मारा गया। खोपड़े ने बताया कि जोनल कमांडर आलोक यादव के पास से बरामद एके-47 की मैगजीन में मात्र तीन राउंड कारतूस थे। जोनल कमांडर आलोक यादव ने अपने पास के एके -47 से 27 राउंड गोलियां फायर की थी जो इस संभावना को बल देता है कि मारे गए जोनल कमांडर आलोक यादव को यह आभास नहीं था कि पुलिस या अर्ध सैनिक बल की टुकड़ी मुठभेड़ स्थल के आसपास होगी। इसीलिए उसने अपने एके -47 की अधिकांश गोलियां वीरेंद्र यादव और जयराम यादव की हत्या करने में इस्तेमाल कर दींं। हिन्दुस्थान समाचार/पंकज कुमार/विभाकर-hindusthansamachar.in