छात्र की हत्या के मामले में शिथिलता बरतने वाले थाना प्रभारी किए गए लाइन हाजिर
क्राइम

छात्र की हत्या के मामले में शिथिलता बरतने वाले थाना प्रभारी किए गए लाइन हाजिर

news

मथुरा, 31 जुलाई (हि.स)। थाना फरह क्षेत्र के एक लापता छात्र का शव पेड़ पर लटका मिला, जिसको थाना फरह पुलिस आत्महत्या बता दी, लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला दबाकर हत्या का मामला सामने आने पर एसएसपी ने शुक्रवार थाना प्रभारी की लापरवाही मानते हुए उसे लाइन हाजिर कर दिया है तथा विवेचक को लम्बित कर दिया है, अब इस मामले की जांच एसपी सिटी उदय शंकर को सौंपी है। गौरतलब हो कि, 15 दिन पूर्व हाईस्कूल के रिजल्ट आने के बाद मृतक रोहित मैच खेलने के दौरान किसी से झगड़ा हो गया था उसके बाद वह लापता हो गया, परिजनों ने गुमशुदगी की रिपोर्ट थाना फरह में कराई, उसके बाद गुरूवार को उसका शव पेड़ पर रस्सी से बंधा मिला। थाना प्रभारी शेर सिंह ने इसे हाईस्कूल में फेल होकर छात्र ने आत्महत्या की बात कही। लेकिन बीतीरात पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला दबाकर हत्या करने का मामला उजागर हुआ तो फरह थाना प्रभारी शेर सिंह को शुक्रवार सुबह एसएसपी ने लाइन हाजिर करते हुए वहां नवागत थानाध्यक्ष प्रदीप कुमार को बना दिया तथा विवेचक मनोज कुमार को निलंबित कर दिया। परिजनों ने करनपुर निवासी कमलेश पुत्र मौजीराम, विनीत पुत्र कमलेश, रोहित पुत्र कमलेश और बेरी निवासी वीरेश पुत्र हरिनारायण के खिलाफ हत्या का थाना फरह में मुकद्मा पंजीकृत कराया। शुक्रवार दोपहर एसएसपी डॉ. गौरव ग्रोवर ने बताया कि पुलिस की लापरवाही सामने आयी है, 17 जुलाई को गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज होने के बाद पुलिस ने संपूर्ण प्रकरण में शिथिलता बरती है। एसपी सिटी उदय शंकर को पूरी जांच सौंपी गई है, परिजनों की पूछताछ के आधार पर थाना प्रभारी शेर सिंह को दोषी मानते हुए लाइन हाजिर कर दिया है तथा विवेचक मनोज कुमार को निलंबित कर दिया है। हिन्दुस्थान समाचार/महेश/मोहित-hindusthansamachar.in