गोंडा : गुटखा व्यापारी के सात वर्षीय बेटे का अपहरण, मांगी गयी चार करोड़ की फिरौती
गोंडा : गुटखा व्यापारी के सात वर्षीय बेटे का अपहरण, मांगी गयी चार करोड़ की फिरौती
क्राइम

गोंडा : गुटखा व्यापारी के सात वर्षीय बेटे का अपहरण, मांगी गयी चार करोड़ की फिरौती

news

-मामले की जांच में जुटी यूपी एसटीएफ गोंडा, 24 जुलाई (हि.स.) उत्तर प्रदेश के कानपुर में लैब टेक्नीशियन संजीत यादव की अपहरण के बाद हत्या की वारदात के खुलासे को चौबीस घंटे नहीं बीते कि अपहरणकर्ताओं ने गोंडा में कर्नलगंज के बड़े गुटखा कारोबारी के बेटे का अपहरण कर लिया। अपहरणकर्ताओं ने व्यापारी से चार करोड़ रुपये की फिरौती मांगी है। इस मामले की जांच के लिए यूपी एसटीएफ को लगाया गया है। कर्नलगंज के मोहल्ला गाड़ी बाजार स्थित पुलिस चौकी के पीछे मोहल्ले में रहने वाले हरीश कुमार गुप्ता बीड़ी और गुटखा के बड़े व्यापारी है। परिजनों की मुताबिक शुक्रवार की दोपहर को आल्टो कार से सरकारी विभाग का परिचय पत्र गले में टांग कर कुछ लोग मोहल्ले में मास्क और सैनिटाइजर वितरण कर रहे थे। जब वह लोग व्यापारी के घर के सामने पहुंचे तो सैनिटाइजर देने की बात कही और उनके सात वर्षीय बच्चे को साथ में लेकर यह कहते हुए कि बच्चे को भेज दीजिए गाड़ी से सैनिटाइजर निकाल कर दे देते हैं। इतना कहकर बच्चे को लेकर युवक निकले और गाड़ी के पास पहुंचते ही बच्चे को कार में बैठाकर फरार हो गए। यह जानकारी परिवार वालों को तब हुई जब बच्चे के पिता हरीश गुप्ता को अपहरणकर्ताओं ने फोन करके कहा कि उनके बेटे का अपहरण हो गया है। अपहरणकरर्ताओं ने व्यापारी से चार करोड़ रुपये की फिरौगी मांगी है। सात साल के बच्चे की अपहरण की सूचना मिलते ही क्षेत्राधिकारी कृपा शंकर कनौजिया, कोतवाल राजनाथ सिंह, चौकी प्रभारी रणजीत यादव पहुंचकर परिवार से बातचीत की। वहीं, पुलिस के अधिकारियों ने नगर के प्रत्येक मार्गों पर लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज को खंगालमे में जुट गये। एसओजी की पूरी टीम सीसीटीवी मे बच्चे को एक व्यक्ति आल्टो कार की तरफ ले जा रहा है, जिसकी पड़ताल और तलाश मे पुलिस जुटी है। पुलिस के पास अभी यहां तस्वीर सिर्फ एक सीसीटीवी की मिली है, जो उसके लिए एक अपराधियों तक पहुंचने का एक मात्र सुराग है। मौके पर पहुंचे एएसपी महेंद्र कुमार ने बताया कि घटना की जानकारी हुई है। पीड़ित व्यापारी की ओर से दी गयी तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। पुलिस अपना काम कर रही है। अभी तक कोई सुराग पुलिस के हाथ नहीं लग सका। वहीं, इस मामले में यूपी एसटीएफ को लगाया गया है कि अपहरणकर्ताओं से बच्चे को सकुशल बरामद कर लिया जाये। वहीं, बच्चे के अपहरण के बाद पूर परिवार में रोना-पीटना मचा हुआ है। हिन्दुस्थान समाचार/ महेन्द्र-hindusthansamachar.in