गाजियाबाद : पराली जलाने पर दो किसानों के खिलाफ एफआईआर दर्ज, लेखपाल निलंबित
क्राइम

गाजियाबाद : पराली जलाने पर दो किसानों के खिलाफ एफआईआर दर्ज, लेखपाल निलंबित

news

गाजियाबाद,14 अक्टूबर (हि.स.)। दिल्ली से सटे गाजियाबाद जिले में लगातार बढ़ रहे वायु प्रदूषण को लेकर जिला प्रशासन लगातार सख्ती बरत रहा है। इसी कड़ी में लोनी में मंगलवार को जहां सात बिल्डर्स पर जुर्माना ठोका था। बुधवार को कुशलिया गांव में पराली जलाने के मामले में वहां के लेखपाल को निलंबित कर दिया गया। वहीं पराली जलाने वाले दो किसानों के खिलाफ पुलिस ने एफआईआर दर्ज कराई है। उधर मैन्युफैक्चर्सस एसोसिएशन के एक प्रतिनितधिमंडल ने जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंप कर औद्योगिक क्षेत्र में जनरेटर चलाने की छूट देने की मांग की। जिस पर जिलाधिकारी ने कहा कि उद्यमियों को एनजीटी के आदेशों के अनुपालन में जनरेटर्स बंद रखने होंगे। जिलाधिकारी अजय शंकर पांडेय खुद इस पर नजर रखे हुए हैं कि वायु प्रदूषण पर नियंत्रण रहे। इसी चलते मंगलवार को उन्होंने प्रदूषण विभाग,जीडीए व अन्य संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए थे कि वायू को प्रदूषित करने के लिए जिम्मेदार संस्थानों व उनके संचालकों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए। इसके बाद कल शाम एसडीएम लोनी के नेतृत्व में खुले में बिल्डिंग मैटेरियल रखने वाले 12 बिल्डर्स के खिलाफ कार्रवाई करते हुए दो लाख 55 हजार का जुर्माना ठोका था। जिलाधिकारी डा. अजय शंकर पांडेय ने बताया कि उन्हें जानकारी मिली थी कि मसूरी थाना क्षेत्र के कुशलिया गांव में एक किसान अपने खेत में पराली जलाकर वायु को प्रदूषित कर रहा है। जिसके बाद उन्होंने एसडीएम सदर डीपी सिंह को तत्काल मौके पर भेजा। जिसके बाद एसडीएम सदर ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी। रिपोर्ट का अवलोकन करने के लिए किसान जफर अली व रहीम के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिए। जिसके बाद दोनों किसानों के खिलाफ मसूरी थाने में रिपोर्ट दर्ज करा दी गई। जिलाधिकारी ने बताया कि प्रदूषण फैलाने वालों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा। साथ ही यदि किसी अधिकारी ने इसमें कोताही बरती तो उसके खिलाफ भी कार्रवाई निश्चित रूप से होगी। हिन्दुस्थान समाचार/फरमान/दीपक-hindusthansamachar.in