गया में कुख्यात नक्सली कमांडर ने किया आत्मसमर्पण
क्राइम

गया में कुख्यात नक्सली कमांडर ने किया आत्मसमर्पण

news

गया, 11 सितंबर(हि.स.) दो दर्जन से अधिक सुरक्षाकर्मियों की हत्या में शामिल कुख्यात नक्सली कमांडर नवल भुइंया उर्फ अर्जुन ने केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल, बिहार पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों के समक्ष शुक्रवार को आत्मसमर्पण कर दिया। प्रतिबंधित नक्सली संगठन भा.क.पा. (माओवादी) जोनल कमाण्डर नवल भुईयां उर्फ अर्जुन, पिता-रामपाल भुईयां, ग्राम- जगतपुर, थाना-भदवर, गया (बिहार) का रहने वाला है।अर्जुन भुइंया के अनुसार उन्होंने नक्सली कमांडरों के पक्षपात पूर्ण रवैये तथा दुर्वव्यवहार से तंग आकर नक्सली संगठन को छोड़ने का फैसला लिया है।वो 20 वर्षों से नक्सल संगठन से जुड़ा था। में जुड़े जोनल कमाण्डर नवल भुईयों उर्फ अर्जुन ने नक्सल संगठन छोड़ने का फैसला किया। जोनल कमाण्डर नवल भुईयां उर्फ अर्जुन के ऊपर गया में 09 और औरंगाबाद में कुल 38 नक्सली घटनाओं को लेकर मामले दर्ज है। अर्जुन भुइंया पर इस वर्ष में मध्य विद्यालय, सोनदाहा, थाना-बांकेबाजार, जिला-गया को बम से उड़ाने, वर्ष 2019 में 205 कोबरा कमाण्डों के साथ पचरूखिया जंगल के नजदीक, छकरबंधा जंगली क्षेत्र में भीषण मुठभेड़ जिसमें 205 कोबरा के उपनिरीक्षक रौशन कुमार शहीद हुये थे, वर्ष 2016 में 205 कोबरा के साथ एकरूपईवा, थाना-लुटूआ में नक्सलियों के साथ भीषण मुठभेड़, जिसमें नक्सल सबजोनल कमाण्डर अनिल राय मारा गया था, वर्ष 2016 में ही 205 कोबरा के साथ सतनदीया नाला, थाना-देव में नक्सलियों के साथ भीषण मुठभेड़, जिसमें 03 नक्सली मारे गये थे, वर्ष 2016 में डुमरीनाला में 205 कोबरा के साथ मुठभेड़ एवं आई0ई0डी0 ब्लास्ट,जिसमें 205 कोबरा के 10 जवान शहीद हुये थे। वहीं, वर्ष 2016 में बंधुबिगहा, देव में रोड़ में आई.ई.डी. विस्फोट कर कोबरा जवान को मोटरसाईकिल सहित उड़ाने, जिसमें 01 जवान शहीद हुए थे। पुलिस महानिरीक्षक, मगध जोन राकेश कुमार राठी ने इस मौके पर कहा कि समाज से भटके नौजवान जो मुख्य धारा से अलग होकर नक्सलियों का साथ दे रहे है, वो सभी हिंसा का रास्ता छोड़कर समाज की मुख्य धारा में सम्मिलित हो और अपने परिवार एवं समाज का विकास करें। जिसके लिए बिहार पुलिस एवं केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल सदैव तत्पर हैं। हिंदुस्थान समाचार/पंकज/चंदा-hindusthansamachar.in