खैर की तस्करी करते दो गिरफ्तार
क्राइम

खैर की तस्करी करते दो गिरफ्तार

news

ऊना, 07 सितंबर (हि.स.)। वन व पुलिस विभाग की टीम ने गुप्त सूचना के आधार पर वाहन में छुपाकर ले जाए जा रहे खैर के पेड़ की लकड़ी के 24 मौच्छे बरामद किए हैं। इस वारदात में संलिप्त दो लोगों को रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। उपमंडल गगरेट का सीमांत गांव पांवड़ा हिमाचल-पंजाब की सीमा पर स्थित है और दोनों ओर से जंगलों से घिरा है। यहां के जंगलों में खैर के पेड़ अधिक संख्या में पाए जाते हैं। खैर के पेड़ की लकड़ी कत्था बनाने के काम आती है और बाजार में मंहगे दाम पर बिकती है। यही वजह है कि वन माफिया के निशाने पर यहां के जंगल हैं। सोमवार को पुलिस को गुप्त सूचना मिली कि पांवड़ा गांव से खैर की लकड़ी के नग अवैध तरीके से ले जाए जा रहे हैं।इस पर पुलिस व वन विभाग की संयुक्त टीम बनाकर टीम को पांवड़ा गांव की ओर रवाना किया गया। टीम अभी पांवड़ा गांव की ओर जा रही थी कि रास्ते में एक टाटा सूमो गाड़ी संख्या एचपी-19ए-9723 आती हुई दिखाई दी। टीम ने जब इस गाड़ी को रोक कर इसकी तलाशी ली तो इसमें 24 मौच्छे खैर की लकड़ी के पाए गए। पुलिस ने इस बावत मामला दर्ज कर गाड़ी में सवार दोलोगों प्रमोद कुमार अंबोटा व कुलदीप सिंह पांवड़ा को गिरफ्तार कर लिया है। एसपी ऊना अर्जित सेन ठाकुर ने कहा कि पुलिस अब यह पता लगाने का प्रयास कर रही है कि खैर की लकड़ी के पेड़ कहां से काटे गए थे। क्या यह सरकारी जमीन से काटे गए हैं या फिर पंजाब के जंगल से काटे गए हैं, पुलिस इसका भी पता लगाने का प्रयास करेगी। हिन्दुस्थान समाचार/विकास/सुनील-hindusthansamachar.in