कानपुर : फर्जी जमानतगीर गिरोह का भंडाफोड़, पुलिस ने 11 आरोपियों को किया गिरफ्तार
कानपुर : फर्जी जमानतगीर गिरोह का भंडाफोड़, पुलिस ने 11 आरोपियों को किया गिरफ्तार
क्राइम

कानपुर : फर्जी जमानतगीर गिरोह का भंडाफोड़, पुलिस ने 11 आरोपियों को किया गिरफ्तार

news

- जाली दस्तावेज लगाकर जिले में 73 अपराधियों को दिला चुके हैं जमानत कानपुर, 12 नवम्बर (हि.स.)। कानपुर पुलिस ने कई आपराधिक मामलों के साथ ही फर्जी जमानत लेने के वाले 11 आरोपियों को धर दबोचा। पकड़े गए आरोपियों में छह आरोपियों पर शहर के कई थानों में हत्या, रंगदारी सहित तमाम केस दर्ज हैं। वहीं पकड़े गए अन्य पांच आरोपी अपराधियों को फर्जी दस्तावेज तैयार कर लगातार जमानतें कराने में शामिल हैं। जनपद में फर्जी जमानतगीरों के खुलासे के बाद एसपी पश्चिम की देखरेख में सीओ कोतवाली के नेतृत्व में प्रभारी संजीव कांत मिश्रा की टीम ने फर्जी जमानत करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया है। जनपद पुलिस को कोर्ट के माध्यम से जानकारी हुई थी कि एक ऐसा गिरोह काम कर रहा है जो फर्जी जमानत लगाकर और उनका वेरिफिकेशन करा कर अपराधियों को जेल से बाहर लाने का काम करता है। इस फर्जी जमानत गिरोह की जानकारी होने के बाद से पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी थी। पुलिस अधीक्षक पश्चिम डॉ अनिल कुमार ने इस गिरोह का नेटवर्क तोड़ने का टास्क लिया। उन्होंने सीओ कोतवाली व निरीक्षक संजीव कांत मिश्रा को फर्जी जमानतगीरों की धरपकड़ के लिए लगाया। एसपी पश्चिम ने गुरुवार को बताया कि गिरोह के सदस्यों की तलाश के लिए पुलिस की कई टीमें बनाई गई थी जो फर्जी जमानत कराने वाले गिरोह के बारे में जानकारी जुटा रही थी। तफ्तीश में जमानतगीरों के नाम सामने आते ही पुलिस टीम ने पांच आरोपियों को दबोच लिया। इसके साथ ही छह आपराधिक गतिविधियों में लिप्त हत्या, रंगदारी सहित गैंगस्टर के आरोप में जेल जा चुके छह अभियुक्तों को भी गिरफ्तार कर लिया गया। इस तरह फर्जी जमानतगीर गिरोह में शामिल कुल 11 आरोपियों को गिरफ्तार करने में पुलिस को कामयाबी मिली है। इनमें अपराधी नवाब अख्तर उर्फ मन्नू, राम बाबू, मुन्ना सद्दाम, सलमान, सहजाद व इरफान हैं। जबकि जमानतगीर राजेश कुमार, नत्थू, संतोष, ब्रजकिशोर व अरविंद उर्फ झिंनी हैं। खास बात यह कि सभी जमानतगीर बिठूर थाना क्षेत्र के निवासी है। एसपी पश्चिम ने बताया कि इसमें कई विभागीय कर्मचारियों की मिलीभगत होने की संभावनाएं से इनकार नहीं किया जा सकता है। पकड़े गए सभी अपराधियो के ऊपर हत्या, लूट समेत कई संगीन धाराओं में मुकदमे दर्ज है। साथ ही इस फर्ज़ी जमानत में और कई अपराधियो के भी नाम सामने आए हैं, उन सब की तलाश की आ रही है। पुलिस के मुताबिक, फर्जी जमानत के लगभग 73 मामले सामने आए थे। जबकि जांच में 30 से 40 केस और उजागर हुए हैं जिनकी पड़ताल के लिए माननीय न्यायालय से साक्ष्य संकलन किए जा रहे हैं। जांच में जैसे जैसे साक्ष्यों का पता चलेगा वैसे वैसे आरोपियों की गिरफ्तारी व मुकदमे में षणयंत्र के आधार पर धाराएं बढ़ाते हुए कार्यवाही की जाएगी। हिन्दुस्थान समाचार/हिमांशु/मोहित-hindusthansamachar.in