आपराधिक संगठन पहाड़ी चीता का सुप्रीमो गिरफ्तार
क्राइम

आपराधिक संगठन पहाड़ी चीता का सुप्रीमो गिरफ्तार

news

सिमडेगा, 18 अक्टूबर (हि.स.)। आपराधिक संगठन पहाड़ी चीता के सुप्रीमो चरका मंगरा उरांव की गिरफ्तारी के बाद पहाड़ी चीता का सूपड़ा साफ हो गया। जानकारी के मुताबिक 21 अगस्त को भी पहाड़ी चिता एवं पुलिस के साथ मुठभेड़ हुई थी, जिसमें सीमोन केरकेट्टा मारा गया था। जबकि किशोर खलखो, लोया ठाकुर और पिंटू हजाम तथा सुख सागर भगत को हथियार के साथ पुलिस ने गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की थी। उस मुठभेड़ में चरका उर्फ़ उंगरा उरांव भागने में सफल हो गया था। उसके बाद से ही पुलिस चरखा उर्फ़ मंगरा उरांव की तलाश में थी। इधर, एसपी डॉक्टर शम्स तब्रेज को गुप्त सूचना मिली की पहाड़ी चीता का सुप्रीमो मंगरा उरांव सिमडेगा व गुमला जिला के सीमांत इलाके में छुपा हुआ है। एसपी ने तत्काल छापामारी दल का गठन किय। छापामारी दल इंस्पेक्टर दयानंद कुमार के नेतृत्व में गठन किया गया। गुमला सिमडेगा सीमांत इलाके में छापामारी कर मंगरा उरांव को गिरफ्तार कर लिया गया। उसकी निशानदेही पर पुलिस ने बोलबा थाना क्षेत्र के कुड़पानी मंगरा उरांव के ससुराल से एक देसी पिस्तौल तथा तीन चक्र 8 एमएम का जिंदा कारतूस तथा 2 मोबाइल बरामद किया गया। छापामारी दल में इंस्पेक्टर दयानंद कुमार, अंगरक्षक रंजीत उरांव, योगेंद्र सिंह के अलावे सशस्त्र बल शामिल थे। मंगरा उरांव के खिलाफ बोलबा थाना में पांच आपराधिक मामले दर्ज हैं। जबकि केरसई में 1 तथा गुमला जिला के सिसई थाना में दो आपराधिक मामले दर्ज है। प्रशस्ति पत्र देकर किया गया सम्मानित एसपी डॉ शम्स तब्रेज ने पहाड़ी चीता के सुप्रीमो की गिरफ्तारी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले इंस्पेक्टर दयानंद कुमार, उनके दो अंगरक्षक रंजीत उरांव,योगेंद्र सिंह , आईटी सेल में बेहतरीन काम करने वाले पुलिस के जवानों को भी प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया गया। हिन्दुस्थान समाचार / रविकांत/वंदना-hindusthansamachar.in