अवैध संबंध के चलते की गई थी मां-बेटे की हत्या, मृतका के पति, देवर व बहन गिरफ्तार
क्राइम

अवैध संबंध के चलते की गई थी मां-बेटे की हत्या, मृतका के पति, देवर व बहन गिरफ्तार

news

जयपुर, 30 जुलाई (हि.स.)। करधनी थाना इलाके में मां-बेटे के विषाक्त का सेवन से मौत मामले में नया मोड आ गया है। पुलिस की ओर से हत्या का प्रकरण दर्ज कर जांच करने पर अवैध संबंध के चलते मां-बेटे की हत्या कर आत्महत्या का रूप देना सामने आया। पुलिस ने गुरुवार को हत्या के आरोप में मृतका के पति, देवर व बहन को गिरफ्तार किया है। जांच में सामने आया कि मृतका की बहन का अपने जीजा के साथ अवैध संबंध है और जीजा का भाई मृतका की बहन से प्यार करता है। जीजा ने अपने भाई को साली से शादी कराने के लिए पत्नी व बेटे को जहर दिलाया, जिससे आत्महत्या मानकर मामला बंद होने पर भाई को ब्लेकमेल कर सके और पुलिस के हत्या के मामला में जांच करने पर भाई के जेल जाने के बाद साली के साथ आराम से रह सके। पुलिस उपायुक्त जयपुर (पश्चिम) प्रदीप मोहन शर्मा ने बताया कि सूर्य नगर नाड़ी का फाटक निवासी अनीता शर्मा (38) और उसके बेटे मयंक (14) की घर पर विषाक्त पदार्थ खाने से 24 जुलाई की रात मौत हो गई थी। पड़ौसी ने अनीता व मयंक को अचेतावस्था में अस्पताल पहुंचाया,जहां चिकित्सकों ने मां-बेटे को मृत घोषित कर दिया था। पुलिस ने 26 जुलाई को पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया। परिजनों ने पूछताछ में पुलिस को शक हुआ कि मां-बेटे की हत्या को फिल्मी अंदाज में अंजाम देकर इसे आत्महत्या का रुप दिया गया है। जीजा-साली मिलकर मृतका को रास्ते से हटाने की प्लानिंग कर ही रहे थे अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त जयपुर (पश्चिम) बजरंग सिंह शेखावत ने बताया कि हत्या के मामले में पति अनिल, देवर सुनील व बहन पूजा को गिरफ्तार किया गया है। मृतका अनिता की बहन पूजा और जीजा अनिल के बीच अवैध संबंध थे। इन संबधों का पता अनिता को भी चल गया था। जीजा-साली मिलकर अनिता को रास्ते से हटाने की प्लानिंग कर ही रहे थे, इसी बीच अनिल के भाई ने पूजा से शादी करने का बात कही। जो अनिल को नागवार गुजरी। अनिल ने षडय़त्र रचते हुए भाई सुनील को कहा कि जब तक अनिता जिंदा है,तब तक उसकी शादी पूजा से होना संभव नहीं है। दोनों की शादी के लिए अनिता व बेटे मयंक को मारने का भी अनिल ने कहा। आरोपित पति ने एक माह पूर्व ही खरीदी थी नींद की गोलियां थानाधिकारी रामकिशन विश्नोई ने बताया कि आरोपित पति अनिल कलेक्ट्री में सरकारी नौकरी करता है। उसने एक माह पूर्व ही नींद की गोलियां खरीद ली थी। हत्या वाले दिन एक होटल में अनिल व पूजा जाकर रूके। होटल में दोनों ने अपना मोबाइल छोड़ दिया और बाइक से अनिल अपने ससुराल आ गया। जहां पूजा व अनिल ने सास के साथ बैठकर खाना खाया। योजना के तहत देवर सुनील ने भाभी अनिता व भतीजे मयंक को दूध में नींद की 13 गोलियां मिलाकर पिला दी, जिससे वह अचेतावस्था में अपने कमरे मे पड़े रहे। इसके बाद अनिल व पूजा घर गए और शिकंजी में सल्फॉस मिलाकर अचेतावस्था में अनिता व मयंक को पिला दिया और बर्तन धोने के बाद गेट बंद कर वापस वहां से निकलकर होटल आ गए थे। पूछताछ में यह भी सामने आया है कि अनिल ने भाई सुनील को उसकी शादी करने के साथ ही नकदी व मकान देने का भी लालच दिया था। हिन्दुस्थान समाचार/दिनेश/ ईश्वर-hindusthansamachar.in