बंदी-रक्षकों-की-बात-को-गंभीरता-से-लेते-तो-नहीं-होता-मुन्ना-हत्याकांड |Captive Prisoners Take Matter Seriously Then There Munna बंदी रक्षक गंभीरता मुन्ना हत्याकांड Hindi Latest News 


बड़ी खबरें

बंदी रक्षकों की बात को गंभीरता से लेते तो नहीं होता मुन्ना हत्याकांड

बंदी रक्षकों की बात को गंभीरता से लेते तो नहीं होता मुन्ना हत्याकांड

जिला जेल के बंदी रक्षकों ने करीब दो माह पूर्व कलक्ट्रेट पर धरना देकर कहा था कि जेल में कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है। अगर उनकी बात को प्रशासन गंभीरता से लेता तो शायद मुन्ना बजरंगी हत्याकांड को जेल के अंदर होने से बचाया जा सकता था।जिला जेल के बंदी रक्षकों ने करीब दो माह पूर्व कलक्टे्र्रट पर धरना दिया था। धरने पर बैठे बंदी रक्षकों ने कहा था कि जेल के अंदर कुछ भी ठीक नहीं है। जेल के अंदर कुख्यात बदमाश अपनी मन मर्जी चलाते है। उनसे जबरन काम कराते है। शिकायत करने पर उनका वेतन रोक दिया जाता था। जेल के अंदर माफिया को वीआईपी सुविधाएं दी जाती है।रुपये लेकर बदमाशों को मोबाइल फोन उपलब्ध कराए
www.livehindustan.com
पूरी स्टोरी पढ़ें »

अन्य सम्बन्धित समाचार


www.livehindustan.com से अधिक समाचार