यूएस सीडीसी ने डेल्टा कोविड-19 स्ट्रेन को बताया चिंताजनक
us-cdc-calls-delta-kovid-19-strain-worrying

यूएस सीडीसी ने डेल्टा कोविड-19 स्ट्रेन को बताया चिंताजनक

वाशिंगटन, 16 जून (आईएएनएस)। यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) ने कोविड-19 के डेल्टा स्ट्रेन को चिंता के एक प्रकार के रूप में पुनर्वगीर्कृत किया है, जो इसके अधिक संचरणीय होने के बढ़ते सबूत के आधार पर है। मीडिया रिपोर्ट्स में यह जानकारी दी गई है। सीडीसी का वर्गीकरण कोविड-19 के तीन वेरिएंट यानी प्रकारों को परिभाषित करता है, जिनमें रुचि के प्रकार, चिंता के प्रकार और उच्च परिणाम से संबंधित वेरिएंट शामिल हैं। अन्य वेरिएंट, जो अमेरिका में सकुर्लेट हो रहे हैं, जिन्हें सीडीसी द्वारा चिंता के वेरिएंट के रूप में वगीर्कृत किया गया है, उनमें बी117 (अल्फा), बी1351 (बीटा), पी1 (गामा), बी1427 (एप्सिलॉन), बी16172 (एप्सिलॉन) और बी16172 (डेल्टा) शामिल हैं। फॉक्स न्यूज ने सीडीसी के हवाले से कहा, सीडीसी और एसएआरएस-सीओवी-2 इंटरएजेंसी ग्रुप वेरिएंट के वर्गीकरण का आकलन करने के लिए उपलब्ध वैज्ञानिक साक्ष्य और जीनोमिक निगरानी डेटा की लगातार समीक्षा कर रहे हैं। सीडीसी के अनुसार, एक प्रकार की वर्गीकरण स्थिति बदल सकती है, क्योंकि अधिकारी उनके बारे में अधिक जाना है। सीडीसी ने मंगलवार को कहा कि डेल्टा वेरिएंट, जो पहली बार भारत में पाया गया था, अमेरिका सहित कम से कम 66 देशों में फैल गया है। इस सप्ताह की शुरूआत में, ब्रिटेन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि बायोएनटेक/फाइजर वैक्सीन की दो खुराक डेल्टा वेरिएंट के खिलाफ 96 प्रतिशत प्रभावी हैं । जिन्हें इन वैक्सीन की दोनो डोज मिल गई हैं, उनके अस्पताल में भर्ती होने की संभावना न के बराबर है। नए आंकड़ों के अनुसार, डेल्टा अब अमेरिकी मामलों का लगभग 10 प्रतिशत है। यूएस फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन के पूर्व आयुक्त स्कॉट गॉटलिब ने हाल ही में कहा है कि वैरिएंट अमेरिका में नए संक्रमणों का प्रमुख स्रोत बनने की संभावना है और सितंबर तक नए प्रकोप का कारण बन सकता है। उन्होंने कहा, अभी संयुक्त राज्य अमेरिका में यह संक्रमण लगभग 10 प्रतिशत है। यह हर दो सप्ताह में दोगुना हो रहा है। गॉटलिब ने रविवार को सीबीएस फेस द नेशन कार्यक्रम के दौरान यह बात कही थी। हालांकि, गॉटलिब ने यह भी स्पष्ट किया कि अमेरिका में उपयोग के लिए स्वीकृत एमआरएनए कोविड-19 टीके काफी प्रभावी हैं और इस संक्रमण के खिलाफ दो डोज लोगों को वायरस से काफी हद से बचाती हैं। --आईएएनएस एकेके/आरजेएस

Related Stories

No stories found.