कोरोना की दूसरी लहर का अर्थव्‍यवस्‍था पर रहेगा हल्‍का असर : वित्‍त मंत्रालय की रिपोर्ट

कोरोना की दूसरी लहर का अर्थव्‍यवस्‍था पर रहेगा हल्‍का असर : वित्‍त मंत्रालय की रिपोर्ट
the-second-wave-of-corona-will-have-a-slight-effect-on-the-economy-finance-ministry-report

नई दिल्ली, 07 मई (हि.स.)। कोविड-19 की दूसरी लहर का अर्थव्यवस्था पर पहली लहर के मुकाबले हल्का असर पड़ेगा। वित्त मंत्रालय ने शुक्रवार को जारी अपनी मासिक रिपोर्ट में ये बात कही है। हालांकि, रिपोर्ट में ये दावा किया गया है कि संक्रमण की दूसरी लहर से वित्त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही में आर्थिक गतिविधियों में गिरावट का जोखिम पैदा हुआ है। वित्त मंत्रालय ने अपनी मासिक रिपोर्ट में कहा है कि कोरोना की पहली लहर के मुकाबले दूसरी लहर का अर्थवव्यस्था पर कम असर होने की कुछ वजह है। खासकर अंतरराष्ट्रीय अनुभवों के साथ कोरोना महामारी के साथ ‘परिचालन’ की सीख की वजह से कोविड-19 की दूसरी लहर के बीच अर्थव्यवस्था के मजबूत बने रहने की उम्मीद है। मंत्रालय के मुताबिक वित्त वर्ष 2020-21 के दूसरे चरण में आर्थिक गतिविधियों में सुधार से केंद्र सरकार की राजकोषीय स्थिति बेहतर हुई है। वहीं, वित्त वर्ष 2020-21 के दौरान शुद्ध डायरेक्ट टैक्स कलेक्शन (संशोधित अनुमान) की तुलना में 4.5 फीसदी और वित्त वर्ष 2019-20 की तुलना में 5 फीसदी ऊंचा रहा है। यह संक्रमण की पहली लहर के बाद से आर्थिक हालत में सुधार का संकेत देता है। रिपोर्ट में ये कहा गया है कि माल एवं सेवाकर (जीएसटी) संग्रह में अच्छी बढ़ोतरी दर्ज की गई है। गौरतलब है कि पिछले 6 महीनों से जीएसटी का मासिक संग्रह एक लाख करोड़ रुपये से ज्यादा है। वहीं, अप्रैल में ये 1.41 लाख करोड़ रुपये था, जो एक रिकॉर्ड है। यह अर्थव्यवस्था में सुधार का संकेत है। हिन्दुस्थान समाचार/प्रजेश शंकर