गैर-विद्युत क्षेत्र के संयंत्रों को कोयले की आपूर्ति निलंबित रखे जाने की संभावना

 गैर-विद्युत क्षेत्र के संयंत्रों को कोयले की आपूर्ति निलंबित रखे जाने की संभावना
supply-of-coal-to-non-power-sector-plants-likely-to-be-suspended

नई दिल्ली, 13 अक्टूबर (आईएएनएस)। बिजली संयंत्रों में कोयले की आपूर्ति तेज होने के बावजूद गैर-विद्युत क्षेत्र के संयंत्रों को आपूर्ति रोकी जा सकती है। कोल इंडिया की सहायक कंपनी साउदर्न ईस्टर्न कोलफील्ड्स ने कोयला मंत्रालय की बैठक के बाद महत्वपूर्ण बिजली संयंत्रों को कोयला रैक की आपूर्ति मैट्रिक्स को अंतिम रूप दे दिया है। जिन बिजली संयंत्रों में कोयला रैक उपलब्ध कराए जाएंगे उनमें राजपुरा, एचआरवीयूएनएल, कवाई, अकालतारा, बिंजकोट, डीएसपीएम, पाठाड़, साबरमती, जीएसईसीएल, उचपांडा, अन्नूपुर, सिवनी, एमपीपीजीसीएल, अमरावती, वरोरा, धारीवाल, तिरोरा, एनटीपीसी और महाजेनको शामिल हैं। चूंकि एसईसीएल की आपूर्ति अभी सामान्य नहीं हुई है, इसलिए इन बिजली संयंत्रों को कोयले की आपूर्ति समान रूप से की जाएगी। एसईसीएल ने कहा, गैर-विद्युत क्षेत्र के संयंत्रों की आपूर्ति को अगली सूचना तक निलंबित रखा जा सकता है। इस बीच, एल्युमीनियम एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एएआई) ने कोयले की गंभीर कमी के कारण उद्योग के लिए खतरनाक स्थिति और घरेलू उद्योग के अस्तित्व के लिए कोयले की आपूर्ति को तत्काल फिर से शुरू करने के लिए कोल इंडिया को पत्र लिखा है। उद्योग का समर्थन करने के लिए कोयला मंत्रालय और सीआईएल के अथक प्रयासों के बावजूद, विभिन्न कारकों के कारण मौजूदा तीव्र कोयले की कमी ने अत्यधिक अनिश्चित स्थिति पैदा कर दी है, मुख्य रूप से एल्यूमीनियम जैसे अत्यधिक शक्ति वाले उद्योगों के लिए, जिसमें कोयले के उत्पादन लागत का 40 प्रतिशत हिस्सा है। एल्युमीनियम को गलाने के लिए गुणवत्ता वाली बिजली की निर्बाध आपूर्ति की जरूरत होती है, जिसे केवल इन-हाउस सीपीपी के माध्यम से पूरा किया जा सकता है जो 24/7 और 365 दिन संचालित होती है और सुनिश्चित दीर्घकालिक कोयला आपूर्ति के लिए सीआईएल और इसकी सहायक कंपनियों के साथ एफएसए (ईंधन आपूर्ति समझौता) पर हस्ताक्षर किए गए हैं। गैर-विद्युत क्षेत्र के लिए सुरक्षित कोयले की आपूर्ति और रैक को रोकने के लिए हाल के निर्णय एल्यूमीनियम उद्योग के लिए हानिकारक हैं और यह स्थिरता को खतरे में डालेंगे, क्योंकि ये निरंतर प्रक्रिया-आधारित संयंत्र तदर्थ शटडाउन और संचालन शुरू करने के लिए डिजाइन नहीं किए गए हैं। बिजली की आपूर्ति 2 घंटे या अधिक समय तक बाधित रहने पर पिघला हुआ एल्यूमीनियम बर्तनों में जम जाता है, जिससे कम से कम 6 महीने के लिए संयंत्र बंद हो जाता है और भारी नुकसान होता है। संयंत्र को फिर से शुरू करने व धातु में शुद्धता प्राप्त करने में लगभग एक साल लग जाता है। एल्यूमिनियम सामरिक महत्व का एक क्षेत्र है और देश की अर्थव्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण विविध क्षेत्रों के लिए एक आवश्यक वस्तु है। देश की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए घरेलू उत्पादन क्षमता को दोगुना यानी 41 लाख टन प्रतिवर्ष करने के लिए 1.2 लाख करोड़ रुपये (20 अरब डॉलर) का भारी निवेश किया गया है। यह उद्योग दस लाख लोगों को रोजगार देता है और इसने डाउनस्ट्रीम क्षेत्र में 4000 एसएमई विकसित किए हैं। एएआई ने कहा, पूरे उद्योग को ठहराव की स्थिति में लाया गया है और स्थायी संचालन जारी रखने के लिए जरूरी शमन योजना तैयार करने लायक समय नहीं बचा है। परिचालन संयंत्रों के कोयले के भंडार 2-3 दिनों के खतरनाक रूप से कम महत्वपूर्ण स्टॉक उच्च स्तर तक कम हो गए हैं। अप्रैल, 21 के महीने में 15 दिन संकटपूर्ण स्थति रही थी और संयंत्रों को भारी नुकसान हुआ था और एमएसएमई को बड़े जोखिम के साथ कम बिजली पर उत्पादन के लिए मजबूर होना पड़ा था। इसके अलावा, आपूर्ति मांग बेमेल होने के कारण चल रही वैश्विक एल्युमीनियम की कमी भी भारत में मौजूदा कोयले की स्थिति के साथ उद्योग के लिए संकट बढ़ा रही है। उद्योग की दुर्दशा के बीच कोयले की कीमतों में तेजी से वृद्धि ने दोहरी मार पैदा कर दी है। वैश्विक कोयले की कीमतें तेजी से बढ़ी हैं, जबकि समुद्री माल की दरें भी अब तक के उच्चतम स्तर पर हैं। --आईएएनएस एसजीके/एएनएम

अन्य खबरें

No stories found.