फ्रैंकलिन टेंपलटन पर सख्त कार्रवाई, 2 साल तक डेट फंड लॉन्च करने पर लगी रोक

फ्रैंकलिन टेंपलटन पर सख्त कार्रवाई, 2 साल तक डेट फंड लॉन्च करने पर लगी रोक
strict-action-on-franklin-templeton-ban-on-launching-debt-funds-for-2-years

नई दिल्ली, 08 जून (हि.स.)। भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) ने फ्रेंकलिन टेम्पलटन म्युचुअल फंड पर बड़ी कार्रवाई करते हुए उस पर 2 साल के लिए किसी भी तरह के डेट फंड पर लांच करने पर रोक लगा दी है। इसके साथ ही सेबी ने नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में फ्रेंकलिन टेम्पलटन पर 5 करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगाया है । इस आदेश के आने के बाद फ्रेंकलिन टेम्पलटन ने साफ किया है कि वो सेबी के आदेश के खिलाफ सिक्योरिटीज अपीलेट ट्रिब्यूनल (एसएटी) में अपील करेगी। उल्लेखनीय है कि सेबी ने फ्रेंकलिन टेम्पलटन के 6 फंड के मैनेजमेंट में गड़बड़ियां पाई थी। सेबी ने साफ किया था कि इन 6 फंड के मामले में फ्रेंकलिन टेम्पलटन ने कोड ऑफ कंडक्ट ,बौरोइंग और इन्वेस्टमेंट जैसे नियमों का उल्लंघन किया है। इन सभी छह फंड को पिछले साल अचानक बंद कर दिया गया था। सेबी ने अपने आदेश में कहा है कि फंड हाउस को डेट स्कीम के यूनिट धारकों से ली गई एडवाइजरी फीस और इन्वेस्टमेंट मैनेजमेंट फीस भी ब्याज के साथ लौटानी होगी। करीब 512 करोड़ रुपये की ये राशि यूनिट धारकों को 21 दिनों के अंदर लौटानी होगी। मिली जानकारी के मुताबिक गड़बड़ी वाली सभी डेट फंड में निवेशकों का करीब 26 हजार करोड़ रुपये फंसा हुआ है। सेबी ने जांच के बाद अपने आदेश में ये भी साफ किया है कि फ्रेंकलिन टेम्पलटन की डेट स्कीम में काफी अनियमितताएं पाई गई हैं। इन डेट फंड्स का का ड्यू क्लीयरेंस सही तरीके से नहीं किया। इसके साथ ही फंड हाउस का रिस्क मैनेजमेंट फ्रेमवर्क भी सही नहीं था। सेबी ने अपने आदेश में फ्रेंकलिन टेम्पलटन के एशिया पेसिफिक रीजन के प्रमुख विवेक कुड़वा और उनकी पत्नी रूपा कुड़वा पर अगले एक साल तक सिक्योरिटी मार्केट में कारोबार करने पर भी रोक लगा दी है। इसके अलावा विवेक कुड़वा पर 4 करोड़ रुपये और रूपा कुड़वा पर 3 करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। आरोप है कि रूपा और विवेक ने बंद की गई 6 स्कीम में से अपने पैसे पहले ही निकाल लिए थे। इस आधार पर इस बात की आशंका जताई जा रही है कि विवेक और रूपा को डेट फंड के बंद होने की जानकारी पहले से ही थी। उल्लेखनीय है कि फ्रेंकलिन टेम्पलटन ने 23 अप्रैल, 2020 को अपनी 6 डेट स्कीम तो अचानक बंद कर दिया था। इसकी वजह से निवेशकों के 26 करोड़ रुपये इन स्कीम में फंस गए थे। इस मामले में निवेशकों ने जून 2020 में कोर्ट में याचिका डाली थी। इस मामले में सेबी ने भी सख्त रवैया अपनाया। इसके बाद फ्रेंकलिन टेम्पलटन ने सेटलमेंट एप्लीकेशन भी दिया था लेकिन सेबी ने उसके सेटलमेंट एप्लीकेशन को खारिज कर दिया। इसके बाद अब इस मामले में फाइनल ऑर्डर पास कर दिए गए हैं। इस मामले में अदालत से भी आदेश जारी हो चुके हैं। अदालत ने फ्रेंकलिन टेम्पलटन को निवेशकों का पैसा लौटाने का आदेश दिया है। अदालत के इस आदश के बाद निवेशकों को अभी तक तीन किस्तों में कुल 17,778 करोड़ रुपये लौटाए जा चुके हैं जबकि चौथी किस्त में शेष सारी रकम की अदायगी करनी है। हिन्दुस्थान समाचार/योगिता