सोना और चांदी में तेजी जारी, दिवाली तक रिकॉर्ड तेजी का अनुमान

सोना और चांदी में तेजी जारी, दिवाली तक रिकॉर्ड तेजी का अनुमान
gold-and-silver-continue-to-rise-record-fast-until-diwali

नई दिल्ली, 22 मई (हि.स.)। पिछला कारोबारी सप्ताह शेयर बाजार और सर्राफा बाजार दोनों के लिए तेजी वाला सप्ताह रहा। इस सप्ताह सोना और चांदी के कारोबारियों के कारोबार में खासी तेजी आई। सोना और चांदी दोनों की कीमत में इस हफ्ते लगातार तेजी का रुख बना रहा। इस सप्ताह सोना प्रति 10 ग्राम 796 रुपये उछलकर 48,553 रुपये के स्तर पर पहुंच गया। इसी तरह चांदी में भी इस हफ्ते तेजी बनी रही। चांदी इस सप्ताह 885 रुपये की तेजी के साथ 71,245 प्रति किलो के स्तर पर पहुंच गया है। सोना और चांदी की कीमत में अप्रैल के महीने से ही लगातार तेजी बनी हुई है। अप्रैल के महीने में सोने की कीमत में प्रति 10 ग्राम 2,601 रुपये और चांदी की कीमत में प्रति किलो 4,938 रुपये की तेजी आई थी। कीमत में तेजी का ये सिलसिला मई के महीने में भी जारी रहा। मई के महीने में सोना अभी तक प्रति 10 ग्राम 1,762 रुपये और चांदी प्रति किलो 3,445 रुपये तक महंगा हो चुका है। 30 अप्रैल को सोना का बंद भाव 46,791 रुपये प्रति 10 ग्राम था, जो अब 1,762 रुपये की तेजी के साथ 48,553 रुपये के स्तर पर पहुंच गया है। इसी तरह चांदी का 30 अप्रैल को बंद भाव 67,800 रुपये प्रति किलो था, जो अब 3,445 रुपये की उछाल के साथ 71,245 रुपये प्रति किलो हो गया है। सोना और चांदी की 1 अप्रैल से लेकर अभी तक की कीमत की बात करें, तो सोने के दाम में 4,563 रुपये प्रति 10 ग्राम और चांदी के दाम में 8,383 रुपये प्रति किलो की तेजी आ चुकी है। सर्राफा बाजार के जानकारों का कहना है कि आने वाले दिनों में भी सोना और चांदी की कीमत में तेजी का दौर जारी रहने की संभावना है। अंतरराष्ट्रीय बाजार से मिले संकेतों और भारतीय बाजार में बढ़ रही मांग के कारण सोना रक्षाबंधन तक प्रति दस ग्राम 53 हजार रुपये के स्तर पर पहुंच सकता है। अगर वैश्विक और घरेलू परिस्थितियों मे कोई बड़ा उलटफेर नहीं हुआ तो सोना दिवाली तक 56,200 के अपने ऑल टाइम हाई के रिकॉर्ड को भी पार कर सकता है। उल्लेखनीय है कि कोरोना संक्रमण के दौर में अगस्त 2020 में सोना प्रति 10 ग्राम 56,200 रुपये के अपने ऑल टाइम हाई पर पहुंचा था लेकिन उसके बाद कोरोना जैसे जैसे काबू में आता गया, वैसे वैसे सोने में भी गिरावट आने लगी और ये अपने टॉप लेवेल से प्रति 10 ग्राम करीब 12 हजार रुपये तक गिर गया। हालांकि कोरोना की दूसरी लहर के जोर पकड़ने के बाद एक बार फिर सोने की कीमत में तेजी आने लगी है। सोना और चांदी में इस तेजी की एक बड़ी वजह कोरोना के संक्रमण के कारण दुनिया भर में बना अनिश्चितता का माहौल भी बताया जा रहा है। इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय मुद्राओं के बीच डॉलर की कमजोरी से भी सोने के भाव को सपोर्ट मिला है। अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोना पिछले 50 दिनों में 1,730 डॉलर प्रति औंस के स्तर से चलकर 1,835 डॉलर प्रति औंस के स्तर पर पहुंच गया है। अंतरराष्ट्रीय संकेतों के अलावा भारत में महंगाई दर के आंकड़े भी काफी ऊंचे स्तर पर पहुंच गए हैं जिसकी वजह से भी निवेशकों का रुझान सोना और चांदी की ओर बढ़ा है। हिन्दुस्थान समाचार/योगिता